बुलडोजर से लड़ेगा ट्रैक्टर! राकेश टिकैत बोले- संविधान अलमारी में बंद, एक विशेष धर्म के लोगों पर हो रही कार्रवाई

बुलडोजर से लड़ेगा ट्रैक्टर! राकेश टिकैत बोले- संविधान अलमारी में बंद, एक विशेष धर्म के लोगों पर हो रही कार्रवाई

राकेश टिकैत ने साफ तौर पर कहा है कि जिस तरीके से सिर्फ एक धर्म विशेष के लोगों के खिलाफ बुलडोजर की कार्रवाई की जा रही है, वह हिंदुस्तान के भविष्य के लिए बेहद ही खराब है। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं से भारत की बदनामी दुनिया भर में हो रही है।

वर्तमान में देखें तो उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश में अवैध अतिक्रमण के खिलाफ लगातार बुलडोजर चल रहा है। हालांकि, खरगोन और जहांगीरपुरी में रामनवमी और हनुमान जयंती के दिन हुई हिंसा के बाद अवैध अतिक्रमण और तोड़फोड़ करने वालों के खिलाफ बुलडोजर चला है। बुलडोजर की कार्रवाई को लेकर विपक्ष लगातार सरकार के खिलाफ हो-हल्ला कर रहा है। विपक्ष इसे संविधान के खिलाफ बता रहा है। इन सबके बीच किसान नेता राकेश टिकैत ने भी बड़ा बयान दिया है। 

इसे भी पढ़ें: जानिए राकेश टिकैत ने आखिर क्यों कहा भोपाल को भी दिल्ली जैसे घेरेंगे

राकेश टिकैत ने साफ तौर पर कहा है कि जिस तरीके से सिर्फ एक धर्म विशेष के लोगों के खिलाफ बुलडोजर की कार्रवाई की जा रही है, वह हिंदुस्तान के भविष्य के लिए बेहद ही खराब है। उन्होंने कहा कि इस तरह की घटनाओं से भारत की बदनामी दुनिया भर में हो रही है। राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार सांप्रदायिक तनाव को भड़काने और विशेष रूप से राजनीतिक कारणों से एक विशेष स्थान को निशाना बनाने के लिए बुलडोजर का उपयोग कर रही है। उन्होंने कहा कि संविधान फिलहाल अलमारी में बंद कर दिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: आशीष मिश्रा की जमानत रद्द होने पर बोले राकेश टिकैत, अब किसानों को मिलेगा न्याय

टिकैत ने कहा कि बेरोजगारी, महंगाई और विकास जैसे मुद्दों पर सरकार को काम करने की आवश्यकता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि बुलडोजर तो एक ही चल रहा है लेकिन ट्रैक्टर चार लाख चले थे। टिकैत ने कहा कि दिल्ली में कभी न कभी बुलडोजर और ट्रैक्टर का मुकाबला होगा। सरकार 10 साल पुराने ट्रैक्टरों को बंद करने के बात कर रही है। अगर ऐसा होता है तो बहुत जल्द ट्रैक्टर और बुलडोजर आमने-सामने होंगे। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।