राउत ने साधा बीजेपी पर निशाना, कहा- अघोरी कोशिशों के बावजूद अपना मुख्यमंत्री नहीं बना पाई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2019   14:59
राउत ने साधा बीजेपी पर निशाना, कहा- अघोरी कोशिशों के बावजूद अपना मुख्यमंत्री नहीं बना पाई

संजय राउत ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘भाजपा महाराष्ट्र में अपनी ‘अघोरी’ कोशिशों के बावजूद अपना मुख्यमंत्री नहीं बना सकी। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि महाराष्ट्र के लोगों में रोष है।’’ राज्यसभा सदस्य ने कहा, ‘‘महाराष्ट्र में बदलाव की शुरुआत हो रही है...महाराष्ट्र ने देश को नयी सुबह दिखाई है।’’ राउत ने कहा कि लोग पहले उन पर भरोसा नहीं करते थे जब वह कहते थे कि शिवसेना का ‘सूर्ययान’ मंत्रालय (सचिवालय) के छठे माले पर सुरक्षित उतरेगा। इसका मतलब है कि पार्टी राज्य में अपना मुख्यमंत्री बनाएगी।

मुंबई। शिवसेना नेता संजय राउत ने बुधवार को कहा कि भाजपा ने महाराष्ट्र में सत्ता फिर से हासिल करने के लिए ‘‘अघोरी’’ (तंत्र-मंत्र) कोशिशें कीं लेकिन राज्य की जनता ने इसे नाकाम कर दिया और इसके साथ ही देश की राजनीति में बदलाव की शुरुआत हो गई है। राउत ने यहां संवाददाताओं को संबोधित करते हुए कहा कि यह हैरानी नहीं होगी अगर शिवसेना महाराष्ट्र में अपना मुख्यमंत्री (उद्धव ठाकरे) बनाने के बाद केंद्र में सरकार बना ले। भाजपा से टकराव के बाद पिछले एक महीने से नियमित रूप से मीडिया को संबोधित करते हुए राउत ने कहा कि वह बृहस्पतिवार से नियमित संवाददाता सम्मेलन संबोधित नहीं करेंगे और शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ से जुड़े अपने काम पर लौटेंगे।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र से मिले ''उत्साह'' के जरिये यूपी में योगी को घेरने चला विपक्ष

राज्यसभा सदस्य शिवसेना के मुखपत्र ‘सामना’ के कार्यकारी संपादक भी हैं। भाजपा ने राकांपा के अजित पवार के समर्थन के साथ महाराष्ट्र में शनिवार को सरकार बनायी थी। देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व वाली यह सरकार मंगलवार को गिर गई जब अजित पवार ने ‘‘निजी कारणों’’ का हवाला देते हुए उपमुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। राउत ने यहां पत्रकारों से कहा, ‘‘भाजपा महाराष्ट्र में अपनी ‘अघोरी’ कोशिशों के बावजूद अपना मुख्यमंत्री नहीं बना सकी। ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि महाराष्ट्र के लोगों में रोष है।’’ राज्यसभा सदस्य ने कहा, ‘‘महाराष्ट्र में बदलाव की शुरुआत हो रही है...महाराष्ट्र ने देश को नयी सुबह दिखाई है।’’ राउत ने कहा कि लोग पहले उन पर भरोसा नहीं करते थे जब वह कहते थे कि शिवसेना का ‘सूर्ययान’ मंत्रालय (सचिवालय) के छठे माले पर सुरक्षित उतरेगा। इसका मतलब है कि पार्टी राज्य में अपना मुख्यमंत्री बनाएगी।

इसे भी पढ़ें: भारतीय राजनीति में कभी ''विचारधारा'' नाम की एक चीज हुआ करती थी

मुख्यमंत्री का कार्यालय यहां राज्य सचिवालय की छठी मंजिल पर स्थित है। शिवसेना नेता ने कहा, ‘‘लेकिन हमारा ‘सूर्ययान’ सुरक्षित उतरा और आपको हैरानी नहीं होनी चाहिए अगर सूर्ययान दिल्ली में उतरे।’’ शिवसेना-राकांपा-कांग्रेस सरकार के प्रमुख शिल्पकारों में से एक माने जा रहे राउत ने यह भी कहा कि उन्होंने अपनी जिम्मेदारी निभा दी है और अब अपने काम पर ध्यान केंद्रित करेंगे।यह पूछे जाने पर कि बृहस्पतिवार को ठाकरे के शपथ ग्रहण समारोह के लिए किसे-किसे आमंत्रित किया जाएगा, इस पर उन्होंने कहा, ‘‘मेरी जिम्मेदारी अब कम होगी। मैं कल से आपको (मीडिया) संबोधित नहीं करूंगा। मैं सामना में अपना मूल काम शुरू करूंगा..ये सभी फैसले नये मुख्यमंत्री लेंगे।’’ एक अन्य सवाल पर राउत ने कहा कि वह लड़ाका और शिवसेना कार्यकर्ता हैं न कि ‘चाणक्य’। शिवसेना, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और कांग्रेस ने मंगलवार को ठाकरे को मुख्यमंत्री पद के लिए नामित किया। ठाकरे बृहस्पतिवार शाम को यहां दादर इलाके के शिवाजी पार्क में मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।