पेगासस मामले को लेकर रविशंकर प्रसाद ने कांग्रेस को घेरा, प्रणब मुखर्जी का किया जिक्र, कही यह अहम बात

Ravi Shankar Prasad
ANI Image
भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि देश के सामने बोलने का हमारा दिन है, मेरे पास सारे कांग्रेस पार्टी के नेताओं के आरोप है। इन लोगों ने पिछले साल मानसून सत्र चलने नहीं दिया था। क्या राहुल गांधी अब हम पर देशद्रोह का आरोप लगाने के लिए माफी मांगेंगे ?

नयी दिल्ली। पेगासस जासूसी मामले को लेकर सुप्रीम कोर्ट की जांच समिति ने अपनी रिपोर्ट पेश की। जिसके बाद भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पर निशाना साधा और कहा कि क्या राहुल गांधी अब हम पर देशद्रोह का आरोप लगाने के लिए माफी मांगेंगे ? दरअसल, जांच कमेटी ने सुप्रीम कोर्ट को पेश की अपनी रिपोर्ट में बताया कि 29 मोबाइल फोन में से पांच में एक प्रकार का 'मालवेयर' पाया है, लेकिन यह निष्कर्ष नहीं निकाला जा सका कि इस मालवेयर का कारण इजराइली स्पाइवेयर है या नहीं।

इसे भी पढ़ें: जवाब नहीं देकर सरकार ने साफ किया कि उसने पेगासस का इस्तेमाल किया: कांग्रेस 

प्रधान न्यायाधीश एन वी रमण, न्यायमूर्ति सूर्यकांत और न्यायमूर्ति हिमा कोहली की पीठ ने बताया कि जांच समिति ने एक बात यह कही है कि भारत सरकार ने सहयोग नहीं किया। आप वही रुख अपना रहे हैं, जो आपने वहां अपनाया था।

भाजपा नेता रविशंकर प्रसाद ने कहा कि राहुल गांधी और कांग्रेस इसके लिए माफी मांगेंगे, जिस पर इतना बड़ा तूफान खड़ा किया गया। उन्होंने कहा कि ध्यान देने वाली महत्वपूर्ण बात यह है कि सुप्रीम कोर्ट के एक जज की देखरेख में बनी एक उच्च समिति ने जांच के लिए जमा किए गए 29 मोबाइलों में से किसी में भी पेगासस वायरस नहीं पाया है।

उन्होंने कहा कि देश के सामने बोलने का हमारा दिन है, मेरे पास सारे कांग्रेस पार्टी के नेताओं के आरोप है। इन लोगों ने पिछले साल मानसून सत्र चलने नहीं दिया था। क्या राहुल गांधी अब हम पर देशद्रोह का आरोप लगाने के लिए माफी मांगेंगे ? इस दौरान आरोप लगाए गए थे कि प्रधानमंत्री अपनी पार्टी के भीतर जासूसी करा रहे हैं। विपक्षी दलों और पूर्व प्रधानमंत्रियों की जासूसी करा रहे हैं। ऐसे में क्या राहुल गांधी अब माफी मांगेंगे ?

इसे भी पढ़ें: 'कांग्रेस ने किया झूठा प्रचार', पेगासस मामले पर भाजपा ने पूछा- क्या राहुल गांधी जनता से मांगेंगे माफी? 

इसी बीच रविशंकर प्रसाद ने कहा कि कांग्रेस को हम पर जासूसी का आरोप नहीं लगाना चाहिए। जब स्वर्गीय प्रणब मुखर्जी वित्त मंत्री थे, तब कांग्रेस ने उनके कार्यालय में गड़बड़ की थी। 2013 में एक आरटीआई के जवाब के अनुसार, यूपीए सरकार द्वारा हर महीने लगभग 9,000 फोन और 500 ईमेल खाते देखे गए।

अन्य न्यूज़