असली गणतंत्र अंतिम व्यक्ति का उदयः मुख्यमंत्री मनोहर लाल

Chief Minister Manohar Lal
मुख्यमंत्री ने सबसे पहले अम्बाला शहर स्थित शहीद स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद पुलिस लाइन ग्राउंड में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि आज हम 73वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। इस पावन पर्व पर आजादी के आंदोलन में त्याग, तप और बलिदान देने वाले ज्ञात-अज्ञात शहीदों को नमन करते हैं।

चंडीगढ़   मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गणतंत्र दिवस के पावन अवसर अपनी महान सांस्कृतिक परंपराओं और नैतिक मूल्यों पर चलते हुए राष्ट्र और हरियाणा को स्वच्छ, स्वस्थ और खुशहाल बनाने के लिए एकजुट होकर कार्य करने का आह्वान किया। उन्होंने 2024 तक हर हाथ को काम देकर प्रदेश को बेरोजगारी मुक्त बनाने का संकल्प लिया। मुख्यमंत्री आज अंबाला के पुलिस लाइन ग्राउंड में आयोजित 73वें गणतंत्रता दिवस समारोह में नागरिकों को संबोधित कर रहे थे।

 

मुख्यमंत्री ने सबसे पहले अम्बाला शहर स्थित शहीद स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी। इसके बाद पुलिस लाइन ग्राउंड में राष्ट्रीय ध्वज फहराया और परेड की सलामी ली। इस दौरान मुख्यमंत्री ने प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए कहा कि आज हम 73वां गणतंत्र दिवस मना रहे हैं। इस पावन पर्व पर आजादी के आंदोलन में त्याग, तप और बलिदान देने वाले ज्ञात-अज्ञात शहीदों को नमन करते हैं। सन् 1950 में आज ही के दिन हमारा संविधान लागू हुआ और भारत को विश्व का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश बनने का गौरव हासिल हुआ। भारतीय संविधान हर भारतीय नागरिक की आत्मा की आवाज है। आज हम आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं, इस दौरान हमने उल्लेखनीय प्रगति की है।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा की जनता ने कड़ी मेहनत से प्रदेश को देश का अग्रणी राज्य बनाया-बंडारू दत्तात्रेय

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा गीता की धरती ही नहीं बल्कि इस धरा में राष्ट्र भक्ति और देश सेवा का भी जुनून है। राष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शित हुई गणतंत्र दिवस की झांकी में हरियाणा के इस जुनून का प्रदर्शन दिखाई दिया है। उन्होंने कहा कि अमर स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती को पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की पहल की है। इसके साथ ही सिखों के दशम पातशाही श्री गुरु गोबिंद सिंह जी के साहबजादे जोरावर सिंह व फतेह सिंह के शहीदी दिवस 26 दिसंबर को वीर बाल दिवस के रूप में मनाने का भी ऐतिहासिक निर्णय लिया है।

इसे भी पढ़ें: खेलों के पॉवर हाउस हरियाणा के दम ख़म का गवाह बना राजपथ

मुख्यमंत्री ने कहा कि हरियाणा सरकार स्वतंत्रता सेनानियों, शहीदों व उनके आश्रितों को पूरा मान-सम्मान दे रही है। इसी उद्देश्य को ध्यान में हुए स्वतंत्रता सेनानियों व उनकी विधवाओं को 25 हजार रुपये मासिक पेंशन देने के साथ-साथ शहीद सैनिकों, अर्ध सैनिकों के परिवारों को दी जाने वाली एक्स-ग्रेसिया राशि 20 लाख से बढ़ाकर 50 लाख रुपये की गई है। सरकार ने शहीदों के 345 आश्रितों को सरकारी नौकरी प्रदान की है। उन्होंने कहा कि देश के लिए कुर्बानी देने वाले हरियाणा के वीर सपूतों के परिवारों को अमृत महोत्सव में सम्मानित किया जाएगा। इसमें 15 अगस्त 2023 तक जन-भागीदारी से 2 हजार कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे।

इसे भी पढ़ें: हरियाणा का देश की आजादी और सरहदों की रक्षा में अहम योगदान है

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी ने गणतंत्र की भावना के अनुरूप सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास और सबका प्रयास का मूल मंत्र दिया है। हरियाणा सरकार इसी मूल मंत्र पर चलते हुए प्रत्येक देशवासी की सेवा कर रही है। हरियाणा एक-हरियाणवी एक के भाव से हर क्षेत्र और वर्ग का समान विकास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि हर जिले को राष्ट्रीय राजमार्ग से जोड़ने के लिए 17 नए राष्ट्रीय राजमार्ग बनाए जा रहे हैं। इसके साथ ही शिक्षा को बढ़ावा देने के लिए हर 20 किलोमीटर के दायरे में एक कॉलेज खोला गया है। लघु व मध्यम उद्योगों के लिए खंड स्तर पर कलस्टर स्थापित किए जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री श्री मनोहर लाल ने कहा कि असली गणतंत्र अंतिम व्यक्ति का उदय है। गणतंत्र वो नहीं जिसमें लोगों को मांगना पड़े, बल्कि गणतंत्र वह है, जिसमें बिना मांगे उनका हक मिले। इसी को चरित्रार्थ करने के लिए परिवार पहचान पत्र योजना शुरू की गई है। इसमें 611 सरकारी सेवाएं जोड़ी गई हैं, जिसके तहत पात्र व्यक्ति को घर बैठे सेवाओं का लाभ मिल सकेगा। इसके साथ-साथ मुख्यमंत्री अंत्योदय परिवार उत्थान योजना भी चलाई जा रही है। इस वर्ष को अंत्योदय उत्थान वर्ष के रूप में मनाने के साथ-साथ 1 लाख सबसे गरीब परिवारों की पहचान करके उनकी वार्षिक आय 1.80 हजार रुपये किए जाने का लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि गरीब परिवारों को मुख्यमंत्री परिवार समृद्धि योजना के तहत 6 हजार रुपये वार्षिक सहायता भी प्रदान की जा रही है। 

मुख्यमंत्री ने कहा कि ठेका प्रथा बंद करने के लिए हरियाणा कौशल रोजगार निगम बनाया गया है। इसके तहत अनुभवी युवाओं को प्राथमिकता दी जा रही है। भावी पीढ़ी को कौशल व संस्कारयुक्त शिक्षा प्रदान करने के लिए नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 को लागू करने वाला हरियाणा पहला राज्य है। प्रदेश में 138 नए मॉडल संस्कृति स्कूल खोले गए हैं तथा होनहार विद्यार्थियों को सरकारी खर्च पर कोचिंग देने के लिए सुपर-100 कार्यक्रम लागू किया गया है। प्रदेश के युवाओं को आगे बढ़ाने के लिए निजी क्षेत्र में 75 प्रतिशत आरक्षण की नीति को लागू किया गया है। हरियाणा उद्यम एवं रोजगार नीति के तहत 5 लाख नई नौकरियों का सृजन करना, 1 लाख करोड़ रुपये से अधिक का निवेश जुटाना और निर्यात दोगुना करना लक्ष्य है। सरकारी नौकरी में बार-बार आवेदन व फीस से छुटकारा दिलाने के लिए एकल पंजीकरण सुविधा तथा कॉमन पात्रता परीक्षा का प्रावधान किया गया है। विदेशों में युवाओं को शिक्षा व रोजगार दिलाने तथा निवेश आकर्षित करने के लिए विदेश सहयोग विभाग बनाया गया है। प्रदेश के युवाओं ने शिक्षा के साथ-साथ खेल में भी उपलब्धि हासिल की है। आज हरियाणा खेलों का हब है। खेल विभाग में प्रथम श्रेणी तक के 550 सृजित करके अब तक 12 खिलाड़ियों को उप निदेशक व 36 खिलाड़ियों को कोच नियुक्त किया गया है। युवाओं को विश्वस्तरीय प्रशिक्षण देने के लिए प्रदेश में 5 स्पोर्टस सेंटर आफ एक्सीलेंस खोले जा रहे हैं।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कृषि व्यवस्था में सुधार करने और किसानों की आमदनी दोगुनी करने के लिए हरसंभव प्रयास किए जा रहे हैं। आज एमएसपी पर 14 फसलों की खरीद करने वाला हरियाणा देश का एकमात्र राज्य है। यहां गन्ने का भाव भी देश में सर्वाधिक 362 रुपये दिया जा रहा है। प्राकृतिक आपदा से फसलों के खराब होने पर मुआवजा दिया जा रहा है तथा मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल से फसलों की खरीद हो रही है। बागवानी फसलों के संरक्षित मूल्य देने के लिए भावांतर भरपाई योजना तथा प्राकृतिक आपदा के नुकसान की भरपाई के लिए मुख्यमंत्री बागवानी बीमा योजना शुरू की गई है। फल एवं सब्जियों की ग्रेडिंग, भंडारण, व मार्केटिंग के लिए 639 एफपीओ से लगभग 85 हजार किसानों को जोड़ा गया है। किसान क्रेडिट कार्ड की तर्ज पर पशुपालकों को पशुधन किसान क्रेडिट कार्ड बनाए जा रहे हैं। कम पानी की फसलों को बढ़ावा देने के लिए मेरा पानी-मेरी विरासत योजना शुरू की गई है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों को डिजिटल बनाने के लिए ग्राम दर्शन पोर्टल पर 6197 ग्राम पंचायतों का डिजिटल डाटा उपलब्ध करवाया गया है। इसी तर्ज पर शहरों की समस्याओं का निदान करने के लिए शहर दर्शन पोर्टल की भी जल्द शुरूआत की जा रही है। गांव को लालडोरा मुक्त करने व संपत्ति का मालिकाना हक देने के लिए स्वामित्व योजना शुरू की गई है। ग्रामीण आंचल में हर घर नल से जल योजना के तहत लगभग 90 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है। गांव में शहरों के समान सुविधाएं विकसित करने के लिए हरियाणा स्मार्ट ग्राम प्राधिकरण का गठन किया गया है। 10 हजार से अधिक आबादी वाले गांव में हरियाणा ग्राम उदय योजना क्रियान्वित की गई है। म्हारा गांव-जगमग गांव योजना के तहत प्रदेश के लगभग 77 प्रतिशत यानि 5 हजार 487 गांवों में 24 घंटे बिजली दी जा रही है। आज से 85 और गांवों को इस योजना में जोड़ दिया गया है। 

मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि हर घर दस्तक कार्यक्रम के तहत कोविड-19 टीकाकरण किया जा रहा है। उन्होंने प्रदेश के सभी नागरिकों को आह्वान किया कि वे कोरोना को खत्म करने के लिए कोविड टीकाकरण की दोनों डोज अवश्य लगवाएं। इसके साथ-साथ जो भी नागरिक बुस्टर डोज के पात्र हैं वो भी अपना टीकाकरण करवाएं।

इस मौके पर मुख्यमंत्री ने गणतंत्र दिवस की परेड में शामिल झांकियों का अवलोकन किया और विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ठ एवं सराहनीय कार्य करने वाले अधिकारियों व नागरिकों को सम्मानित किया। कार्यक्रम में स्कूल व कॉलेज विद्यार्थियों ने अलग-अलग सांस्कृतिक प्रस्तुतियां भी दी। इस दौरान अम्बाला के विधायक श्री असीम गोयल, मेयर श्रीमति शक्ति रानी शर्मा, एडीजीपी सीआईडी श्री आलोक मित्तल, मंडलायुक्त श्रीमति रेणु एस फुलिया, जिला उपायुक्त श्री विक्रम सिंह, पुलिस अधीक्षक श्री जसनदीप सिंह रंधावा मौजूद रहे।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़