ऋचा चड्ढा को मिला नगमा का साथ! सफाई में अभिनेत्री ने कहा- मैंने केवल सेना के एक दिग्गज का समर्थन किया

Nagma
ANI
अंकित सिंह । Nov 25, 2022 8:16PM
ऋचा चड्ढा ने माफी में कहा कि मेरा उद्देश्य सेना का अपमान करने का नहीं था। अगर किसी को बुरा लगा तो मैं इसके लिए माफी चाहती हूं। उन्होंने कहा कि मेरे नाना खुद फौज में थे और लेफ्टिनेंट कर्नल के पोस्ट पर थे।

सेना को लेकर किए गए एक ट्वीट के बाद अभिनेत्री ऋचा चड्ढा लगातार आलोचनाओं का सामना कर रही हैं। इन सबके बीच ऋचा चड्ढा को कांग्रेस नेता और अभिनेत्री नगमा का साथ मिला है जिसके बाद विवाद बढ़ गया। हालांकि, नगमा ने साफ तौर पर कहा है कि मैंने ऋचा चड्ढा का कोई समर्थन नहीं किया है। मैं एक वरिष्ठ सेना अधिकारी के बातों के समर्थन में हूं। दरअसल, कर्नल अशोक कुमार सिंह ने ऋचा चड्ढा के गलवान वाले ट्वीट के विवाद पर कहा कि मुझे नहीं लगता कि उन्होंने सैनिकों के बलिदान का मजाक उड़ाया बल्कि वह चुनाव में बीजेपी को फायदा पहुंचाने के लिए एक सेवारत जनरल द्वारा दिए गए राजनीतिक बयान को निशाना बना रही थीं। जब सेना का राजनीतिकरण हो जाए तो आलोचना और उपहास के लिए भी तैयार रहें।

इसे भी पढ़ें: ऋचा चड्ढा के गलवान घाटी वाले कमेंट से नाखुश है अक्षय कुमार, कहा-'हम हैं क्योंकि सरहद पर वे हैं'

इसी ट्वीट को रिट्वीट करते हुए नगमा ने लिखा एकदम सही कहा। इसके बाद नगमा को लेकर आलोचनाओं का दौर शुरू हुआ। सोशल मीडिया पर उन्हें ट्रॉल किया जाने लगा। बाद में नगमा ने सफाई दिया। नगमा ने कहा कि मैंने केवल सेना के एक दिग्गज का समर्थन किया, ऋचा चड्ढा के ट्वीट का नहीं। यह कहना सही नहीं है कि मैं सेना का मज़ाक उड़ा रहा हूँ। उन्होंने आगे कहा कि अगर सेना पीओके पर लेने के लिए तैयार है, तो बीजेपी ने उन्हें ऐसा करने की अनुमति क्यों नहीं दी? वहीं, भारतीय सेना को लेकर किए गए ट्वीट के बाद ऋचा चड्ढा ने माफी भी मांग ली थी। हालांकि जाने-माने फिल्मकार अशोक पंडित ने जूहू पुलिस स्टेशन में ऋचा चड्ढा के खिलाफ एक शिकायत दर्ज कराई है। 

इसे भी पढ़ें: ऋचा चड्ढा की बढ़ी मुश्किलें, फिल्ममेकर अशोक पंडित ने दर्ज कराई शिकायत, गलवान घाटी संघर्ष पर किया था कमेंट

ऋचा चड्ढा ने माफी में कहा कि  मेरा उद्देश्य सेना का अपमान करने का नहीं था। अगर किसी को बुरा लगा तो मैं इसके लिए माफी चाहती हूं। उन्होंने कहा कि मेरे नाना खुद फौज में थे और लेफ्टिनेंट कर्नल के पोस्ट पर थे। भारत-चीन युद्ध के दौरान उन्हें गोली लगी थी। मेरे मामा भी पैराट्रूपर थे। इसलिए यह मेरे खून में है। अगर सेना में कोई सही होता है तो उसका पूरा परिवार प्रभावित होता है। यह मेरे लिए एक भावनात्मक मुद्दा है। 

अन्य न्यूज़