ऋचा चड्ढा के गलवान घाटी वाले कमेंट से नाखुश है अक्षय कुमार, कहा-'हम हैं क्योंकि सरहद पर वे हैं'

Akshay Kumar
ANI
रेनू तिवारी । Nov 24, 2022 6:27PM
अभिनेत्री ऋचा चड्ढा ने गलवान घाटी संघर्ष को लेकर भारतीय सेना का मजाक बनाया और व्यंग करते हुए एक ट्वीट किया। उनके इस ट्विट के बार ही सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया। लोगों ने एक्ट्रेस को भारतीय सेना का अपमान करने को लेकर ट्रोल करने लगे।

अभिनेत्री ऋचा चड्ढा ने गलवान घाटी संघर्ष को लेकर भारतीय सेना का मजाक बनाया और व्यंग करते हुए एक ट्वीट किया। उनके इस ट्विट के बार ही सोशल मीडिया पर हंगामा मच गया। लोगों ने एक्ट्रेस को भारतीय सेना का अपमान करने को लेकर ट्रोल करने लगे। अशोक पंडित ने ऋचा चड्ढा के खिलाफ पुलिस में शिकायत भी दर्ज की हैं। अभिनेत्री ऋचा चड्ढा के गलवान वाले ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए अक्षय कुमार ने कहा कि वह उनकी भावनाओं से 'आहत' हुए हैं। भारतीय रक्षा बलों के लिए बोलते हुए, कुमार ने कहा कि 'हम हैं क्योंकि वे हैं'। उन्होंने ट्वीट किया, "यह देखकर दुख होता है। हमें कभी भी अपने सशस्त्र बलों के प्रति कृतघ्न नहीं होना चाहिए। वो हैं तो आज हम हैं।" अक्षय कुमार का ट्वीट चड्ढा के कई लोगों द्वारा आलोचना किए जाने के कुछ घंटों बाद सामने आया।

बॉलीवुड अदाकारा ऋचा चड्ढा अपने 'गलवान' ट्वीट के लिए सोशल मीडिया पर लोगों के गुस्से का सामना कर रही हैं, जिसमें उन्होंने उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी के बयान पर प्रतिक्रिया दी थी कि भारतीय सेना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) को वापस लेने जैसे आदेशों को लागू करने के लिए तैयार है। भारतीय सेना के इस बयान पर ताना वाले लहजे में ऋचा चड्ढा 'गलवान सेज हाय,'। ऋचा चड्ढा के इस ट्विट के बाद विवाद खड़ा हो गया। भारत और चीन के बीच 2020 में गालवान संघर्ष में भारतीय सेना का 'मजाक' उड़ाने और जवानों के बलिदान का अपमान करने के लिए नेटिज़न्स अभिनेता को ट्रोल कर रहे हैं। भाजपा नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने ट्वीट को 'अपमानजनक' करार दिया और कहा, "अपमानजनक ट्वीट। इसे जल्द से जल्द वापस लिया जाना चाहिए। हमारे सशस्त्र बलों का अपमान करना उचित नहीं है।"

उत्तरी सेना के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल उपेंद्र द्विवेदी ने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के पहले के बयान के संदर्भ में मंगलवार को एक बयान जारी किया कि भारत का लक्ष्य पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को फिर से हासिल करना है। उन्होंने कहा कि उन्होंने जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में विकास की अपनी यात्रा अभी शुरू की है। गिलगित और बाल्टिस्तान पहुंचने पर कथित तौर पर वे अपने लक्ष्य को प्राप्त कर लेंगे। उन्होंने यह भी कहा कि सेना यह सुनिश्चित करने के लिए हमेशा तैयार है कि संघर्ष विराम की समझ कभी न टूटे, क्योंकि यह दोनों देशों के हित में है, लेकिन अगर कभी टूटा तो हम उन्हें करारा जवाब देंगे।

अन्य न्यूज़