असहमति का अधिकार लोकतंत्र के लिए आवश्यक है: न्यायाधीश दीपक गुप्ता

right-to-dissent-is-essential-for-democracy-says-judge-deepak-gupta
न्यायमूर्ति गुप्ता ने हालांकि कहा कि असंतोषपूर्ण विचारों को ‘‘शांतिपूर्ण ढंग से’’ व्यक्त किया जाना चाहिए और नागरिकों को जब लगे कि सरकार द्वारा उठाया गया कदम उचित नहीं है तो उन्हें एकजुट होने और विरोध करने का अधिकार है।

नयी दिल्ली। उच्चतम न्यायालय के न्यायाधीश दीपक गुप्ता ने सोमवार को कहा कि असहमति का अधिकार लोकतंत्र के लिए आवश्यक है और कार्यकारिणी, न्यायपालिका, नौकरशाही तथा सशस्त्र बलों की आलोचना को ‘‘राष्ट्र-विरोधी’’ नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि असहमति का अधिकार संविधान द्वारा प्रदत्त ‘‘सबसे बड़ा’’ और ‘‘सबसे महत्वपूर्ण अधिकार’’ है और इसमें आलोचना का अधिकार भी शामिल है। उन्होंने कहा, ‘‘असहमति के बिना कोई लोकतंत्र नहीं हो सकता।’’

न्यायमूर्ति गुप्ता ने उच्चतम न्यायालय बार एसोसिएशन (एससीबीए) द्वारा ‘‘लोकतंत्र और असहमति’’ पर आयोजित एक व्याख्यान में कहा कि सभी को आलोचना के लिए खुला होना चाहिए, और न्यायपालिका आलोचना से ऊपर नहीं है।’’ उन्होंने कहा, ‘‘आत्मनिरीक्षण भी होना चाहिए, जब हम आत्मनिरीक्षण करते हैं, तो हम पाएंगे कि हमारे द्वारा लिए गए कई निर्णयों को ठीक करने की आवश्यकता है।’’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली हिंसा: कांग्रेस ने अमित शाह का इस्तीफा मांगा, राहुल गांधी ने की हिंसा की निंदा

न्यायमूर्ति गुप्ता ने हालांकि कहा कि असंतोषपूर्ण विचारों को ‘‘शांतिपूर्ण ढंग से’’ व्यक्त किया जाना चाहिए और नागरिकों को जब लगे कि सरकार द्वारा उठाया गया कदम उचित नहीं है तो उन्हें एकजुट होने और विरोध करने का अधिकार है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़