UP Election 2022 । अखिलेश यादव से मिले रीता बहुगुणा जोशी के बेटे, क्या हैं इसके सियासी मायने

UP Election 2022 । अखिलेश यादव से मिले रीता बहुगुणा जोशी के बेटे, क्या हैं इसके सियासी मायने

भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी के बेटे मयंक जोशी ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की। यह मुलाकात कई मायनों में सियासत के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

उत्तर प्रदेश विधानसभा में चौथे चरण के लिए मतदान जारी है। हालांकि चौथे चरण के मतदान से ठीक पहले उत्तर प्रदेश की राजनीति में एक बार फिर से हलचल तेज हो गई। दरअसल, भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी के बेटे मयंक जोशी ने समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात की। यह मुलाकात कई मायनों में सियासत के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण माना जा रहा है। अखिलेश यादव ने खुद ट्वीट कर मयंक जोशी से मुलाकात की जानकारी दी। आपको बता दें कि अखिलेश यादव ने कुछ इसी तरह के ट्वीट उस समय भी किए थे जब भाजपा के कई नेता और मंत्री पार्टी छोड़ रहे थे। इसके बाद से यह कयास लगने शुरू हो गए हैं कि क्या मयंक जोशी समाजवादी पार्टी का दामन थामेंगे? सवाल यह भी उठ रहा है कि कांग्रेस छोड़ भाजपा में शामिल होने वाली रीता बहुगुणा जोशी क्या समाजवादी पार्टी में शामिल होंगी?

बताया जा रहा है कि बेटे के टिकट नहीं मिलने से भाजपा सांसद रीता बहुगुणा जोशी नाराज है। रीता बहुगुणा जोशी लखनऊ कैंट से अपने बेटे के लिए भाजपा से टिकट की मांग कर रही थीं। इस सीट से खुद रीता बहुगुणा जोशी भी विधायक रह चुकी हैं। बेटे के टिकट के लिए रीता बहुगुणा जोशी ने लोकसभा की सदस्यता से भी इस्तीफा देने की बात कह दी थी। हालांकि भाजपा की ओर से मयंक को टिकट नहीं दिया गया। इसके बाद से रीता बहुगुणा जोशी और भाजपा के बीच दूरियां और मनमुटाव बढ़ते गए कयास लगाए जा रहे थे कि मयंक समाजवादी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। लेकिन ऐसा नहीं हुआ। लखनऊ कैंट से समाजवादी पार्टी ने राजू गांधी को टिकट दिया है। 

इसे भी पढ़ें: Uttar Pradesh 2022 । चौथे चरण में योगी-अखिलेश-मायावती की साख दांव पर, दिग्गजों ने डाले वोट

हालांकि चौथे चरण के मतदान से पहले मयंक जोशी और अखिलेश यादव की मुलाकात ने एक बार फिर से कई संभावनाओं को जागृत कर दिया है। अखिलेश यादव की मयंक जोशी के साथ तस्वीर सपा को ब्राह्मण और खास करके उत्तराखंड के वोट बैंक में सेंध लगाने की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है। अखिलेश यादव ने अभिषेक मिश्रा के साथ भी एक फोटो ट्वीट की थी। अभिषेक मिश्रा सपा की टिकट से सरोजनी नगर से चुनावी मैदान में हैं। सरोजनी नगर को ब्राह्मण बहुल सीट कहा जाता है। ऐसे में तस्वीरों के जरिए ब्राह्मणों को साधने की कोशिश अखिलेश की ओर से की जा रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...