साध्वी प्रज्ञा बोलीं- सस्ती हो या महंगी, शराब का कम सेवन औषधि समान, ज्यादा पीना जहर जैसा

साध्वी प्रज्ञा बोलीं- सस्ती हो या महंगी, शराब का कम सेवन औषधि समान, ज्यादा पीना जहर जैसा

गुरुवार को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि शराब सस्ती हो या महंगी, शराब औषधि का काम करता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वो आयुर्वेद में शराब यानी अल्कोहल जो होता है उसका सीमित मात्रा में औषधि का काम करता है और असीमित मात्रा में वह जहर जैसा होता है।

अक्सर अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में रहने वाली भोपाल से भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर एक बार फिर से चर्चा में हैं। इस बार उन्होंने शराब को लेकर ऐसा बयान दिया है जिसकी चर्चा हर ओर हो रही है। साध्वी प्रज्ञा ने अपने बयान में दावा किया कि कम मात्रा में शराब का सेवन करना औषधि की तरह है जबकि ज्यादा पीना जहर है। सोशल मीडिया पर साध्वी प्रज्ञा का यह बयान खूब वायरल हो रहा है। गुरुवार को साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर ने कहा कि शराब सस्ती हो या महंगी, शराब औषधि का काम करता है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि वो आयुर्वेद में शराब यानी अल्कोहल जो होता है उसका सीमित मात्रा में औषधि का काम करता है और असीमित मात्रा में वह जहर जैसा होता है।

इसके बाद साध्वी प्रज्ञा ने यह भी कहा कि इसको सब को समझने की जरूरत है, सबको सुनना चाहिए और उसको अधिक लेने से जो नुकसान होते हैं, इसको समझ कर उसे बंद करना चाहिए। इतना ही नहीं, उन्होंने शराबबंदी को लेकर पूर्व मुख्यमंत्री उमा भारती के बयान का भी समर्थन किया है और कहा कि मध्यप्रदेश में शराबबंदी होनी चाहिए। साध्वी प्रज्ञा ने कहा कि शराब की वजह से अपराध भी बढ़ते हैं और घर में क्लेश होता है। साध्वी प्रज्ञा के बयान पर कांग्रेस की ओर से अब निशाना साधा जा रहा है। कांग्रेस नेता नरेंद्र सलूजा ने कहा कि भोपाल की भाजपा सांसद साध्वी प्रज्ञा अब शराब के फायदे गिना रही हैं, वे शराब को औषधि बता रही हैं।

इसे भी पढ़ें: मध्य प्रदेश की नाबालिग लड़की के अपहरण का मामला सुलझा, आरोपियों को किया गया गिरफ्तार

इसके साथ ही कांग्रेस नेता ने कहा कि सांसद साध्वी प्रज्ञा के अनुसार शराब पीने में कोई बुराई नहीं है, बुराई उसकी मात्रा में है। यह पहला मौका नहीं है जब साध्वी प्रज्ञा अपने बयानों की वजह से सुर्खियों में हैं। इससे पहले वह नाथूराम गोडसे को देशभक्त बता कर सुर्खियों में रह चुकी हैं। उन्होंने गोमूत्र को लेकर भी बयान दिए थे। उन्होंने दावा किया था कि इससे कैंसर ठीक होता है। आपको बता दें कि मालेगांव ब्लास्ट मामले में काफी समय तक साध्वी प्रज्ञा को जेल में भी रहना पड़ा था।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...