संजय राउत ने की ‘एक देश, एक भाषा’ की वकालत, कहा- चुनौती स्वीकार करें अमित शाह

संजय राउत ने की ‘एक देश, एक भाषा’ की वकालत, कहा- चुनौती स्वीकार करें अमित शाह
ANI

संजय राउत ने कहा कि अमित शाह को यह चुनौती स्वीकार करनी चाहिए कि भारत के सभी राज्यों में भाषा एक हो। आपको बता दें कि संजय राउत का यह बयान ऐसे समय में सामने आया है, जब लगभग 1 महीने पहले ही अमित शाह ने कहा था कि हिंदी को अंग्रेजी के विकल्प के तौर पर स्वीकार किया जाना चाहिए, ना कि स्थानीय भाषाओं के विकल्प के तौर पर।

देश में हिंदी को लेकर लगातार राजनीतिक विवाद होता रहता है। हिंदी राष्ट्रभाषा होनी चाहिए या नहीं, यह सबसे बड़ा सवाल है। इन सब के बीच शिवसेना नेता संजय राउत ने एक देश एक भाषा की वकालत कर दी है। संजय राउत ने कहा है कि हिंदी पूरे भारत में बोली जाती है और उसकी स्वीकार्यता भी है। इसके साथ ही शिवसेना नेता ने अमित शाह को लेकर भी बड़ा बयान दे दिया। संजय राउत ने कहा कि अमित शाह को यह चुनौती स्वीकार करनी चाहिए कि भारत के सभी राज्यों में भाषा एक हो। आपको बता दें कि संजय राउत का यह बयान ऐसे समय में सामने आया है, जब लगभग 1 महीने पहले ही अमित शाह ने कहा था कि हिंदी को अंग्रेजी के विकल्प के तौर पर स्वीकार किया जाना चाहिए, ना कि स्थानीय भाषाओं के विकल्प के तौर पर। हालांकि, अमित शाह के बयान को लेकर राजनीतिक बवाल भी शुरू हो गया था। दक्षिण के राज्यों में इसका खूब विरोध हुआ था।

इसे भी पढ़ें: पानीपुरी खाते हुए कुमार विश्वास ने तमिलनाडु के मंत्री पोनमुडी पर कसा तंज, ''जबान ठीक रखोगे तो स्वाद बना रहेगा''

दरअसल, संजय राउत तमिलनाडु के शिक्षा मंत्री के पोनमुडी के हालिया बयान पर जवाब दे रहे थे। तमिलनाडु के उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा था कि हिंदी बोलने वाले हमारे यहां पानी पूरी बेचते हैं। संजय राउत ने कहा कि उनकी पार्टी ने हमेशा हिंदी का सम्मान किया है। मुझे इस सदन में जब भी बोलने का मौका मिलता है, मैं हिंदी में ही बोलता हूं क्योंकि देश को सुनना चाहिए कि मैं क्या कहता हूं और यह राष्ट्र की भाषा है। उन्होंने कहा कि हिंदी इकलौती है, जिसकी स्वीकार्यता है और पूरे देश में इसे बोला जाता है। उन्होंने यह भी कहा कि हिंदी फिल्म उद्योग देश-दुनिया में गहरा प्रभाव रखता है। इसलिए किसी भी का अपमान नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा, ‘‘केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को यह चुनौती स्वीकार करनी चाहिए कि सभी राज्यों में एक हो। एक देश, एक संविधान, एक निशान और एक होनी चाहिए।’’ 

इसे भी पढ़ें: अनुभवी विक्रमसिंघे तभी कुछ कर पाएंगे जब पूरी सरकार और श्रीलंकाई जनता उनका साथ देगी

शिवसेना के मुख्य प्रवक्ता ने कहा कि महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की रैली ‘‘ऐतिहासिक और क्रांतिकारी’’ होगी। राउत के मुताबिक, पूरा देश यह जानने के लिए ‘‘उत्साहित’’ है कि ठाकरे जनसभा के दौरान क्या कदम उठाएंगे। उन्होंने कहा, ‘‘कुछ लोग महाराष्ट्र में माहौल बिगाड़ना चाहते हैं, महा विकास आघाडी (एमवीए) सरकार को बदनाम करनाा चाहते हैं और राज्य सरकार को अस्थिर करना चाहते हैं। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे इन सभी को करारा जवाब देंगे।’’ एक सवाल के जवाब में राउत ने कहा कि शिवसेना संस्थापक बाल ठाकरे इकलौते ‘हिंदू हृदय सम्राट थे, हैं और रहेंगे।’ राजस्थान के उदयपुर में कांग्रेस पार्टी के चिंतन शिविर से जुड़े एक सवाल के जवाब में शिवसेना नेता ने कहा कि देश की सबसे पुरानी पार्टी को खुद अपने आप को उठाना चाहिए, केवल तभी देश किसी बदलाव की उम्मीद कर सकता है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।