AAP सांसद संजय सिंह इस सप्ताह के लिए राज्यसभा से निलंबित, राज्यसभा में फेंका था पेपर

Sanjay Singh
ANI
संजय सिंह इस सप्ताह के लिए राज्यसभा से निलंबित किए गए है।मुरलीधरन द्वारा पेश प्रस्ताव ध्वनिमत से पारित किए जाने के बाद हरिवंश ने कहा कि संजय सिंह को इस सप्ताह की शेष बची अवधि के लिए राज्यसभा से निलंबित किया जाता है।

नयी दिल्ली।राज्यसभा की कार्यवाही में बाधा डालने और व्यवधान उत्पन्न करने के लिए आम आदमी पार्टी (आप) के सदस्य संजय सिंह को बुधवार को शुक्रवार तक के लिए उच्च सदन से निलंबित कर दिया गया। एक बार के स्थगन के बाद दोपहर 12 बजे सदन की कार्यवाही आरंभ होते ही उपसभापति हरिवंश ने कहा कि मंगलवार को सदन की कार्यवाही के दौरान आसन के नजदीक आकर नारेबाजी और हंगामा कर रहे थे और इसी बीच उन्होंने कागज के टुकड़े कर उसे आसन की ओर फेंक दिया।

इसे भी पढ़ें: मेघालय में ‘सेक्स रैकेट में शामिल’ BJP नेता यूपी के हापुड़ में गिरफ्तार, जारी हुआ था लुकआउट नोटिस

उन्होंने इसे सदन की अवेहलना करार देते हुए संसदीय कार्य राज्यमंत्री वी मुरलीधरन से उनके निलंबन का प्रस्ताव पेश करने को कहा। मुरलीधरन द्वारा पेश प्रस्ताव ध्वनिमत से पारित किए जाने के बाद हरिवंश ने कहा कि संजय सिंह को इस सप्ताह की शेष बची अवधि के लिए राज्यसभा से निलंबित किया जाता है। उन्होंने संजय सिंह को सदन से बाहर जाने को कहा लेकिन वह सदन में ही मौजूद रहे। लिहाजा, हरिवंश ने सदन की कार्यवाही 15 मिनट के स्थगित कर दी। पंद्रह मिनट बाद जब सदन की कार्यवाही फिर से आरंभ हुई तब भी संजय सिंह सदन के अंदर मौजूद थे।

इसे भी पढ़ें: महाराष्ट्र के पूर्व सीएम को एकनाथ शिंदे ने किया बर्थडे विश, उद्धव को नहीं कहा शिवसेना प्रमुख

हरिवंश ने उनसे बार-बार सदन से बाहर जाने को कहा लेकिन जब ऐसा नहीं हुआ तो उन्होंने सदन की कार्यवाही दो बजे तक के लिए स्थगित कर दी। ज्ञात हो कि राज्यसभा में मंगलवार को तृणमूल कांग्रेस के सात और द्रविड़ मुनेत्र कषगम (द्रमुक) के छह सदस्यों सहित कुल 19 विपक्षी सदस्यों को शुक्रवार तक के लिए निलंबित कर दिया था। विपक्षी नेताओं ने इसका कड़ा विरोध करते हुए सरकार द्वारा इसे जनता के मुद्दे उठाने से रोकने का कदम बताया था जबकि सत्ता पक्ष ने कहा था कि यह निर्णय ‘‘भारी मन’’ से लिया गया है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़