एसडीओ ने बिल भुगतान के लिए माँगी रिश्वत, लोकायुक्त पुलिस ने रंगेहाथों किया गिरफ्तार

एसडीओ ने बिल भुगतान के लिए माँगी रिश्वत, लोकायुक्त पुलिस ने रंगेहाथों किया गिरफ्तार

शिकायत की पुष्टि होने के बाद योजनाबद्ध तरीके से फरियादी ठेकेदार रवि मिश्रा को पहली किश्त के 50 रुपये देने के लिए सोमवार को एसडीओ अजय कुमार सिंगौर के पास भेजा गया। ठेकेदार ने कटनी के माधवनगर गेट के पास एसडीओ सिंगौर को जैसे ही पैसे दिये, उसी समय लोकायुक्त की टीम ने दबिश देकर उसे रिश्वत के पैसों के साथ रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया।

कटनी। जबलपुर लोकायुक्त पुलिस की टीम ने  ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग के एसडीओ को 50 हजार रुपये की रिश्वत लेते हुए रंगेहाथों गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि तालाब निर्माण के बिलों के भुगतान के एवज में एसडीओ ने सवा लाख रुपये की रिश्वत की मांग की थी, जिसकी शिकायत मिलने के बाद लोकायुक्त पुलिस ने योजनाबद्ध तरीके से कार्रवाई को अंजाम दिया।

इसे भी पढ़ें: नेपानगर में बुजुर्ग मां की बेटे ने पत्थरों से पीटकर की हत्या

जबलपुर लोकायुक्त डीएसपी जेपी वर्मा ने बताया कि कटनी जिले के ग्राम मगरधा में गंगा ट्रैडर्स के ठेकेदार रवि मिश्रा ने तालाब का निर्माण कार्य करवाया था, जिसका पांच लाख रुपये का बकाया भुगतान ग्रामीण यांत्रिकी सेवा विभाग से लेना था। इसके लिए ठेकेदार विभाग में बिल लगाए थे, लेकिन बिलों के भुगतान के एवज में विभाग के एसडीओ अजय कुमार सिंगौर ने उससे 1 लाख 25 हजार रुपये की रिश्वत की मांग की। यह राशि दो किश्तों में देने की बात तय हुई। ठेकेदार ने इसकी शिकायत लोकायुक्त पुलिस से की थी।

इसे भी पढ़ें: पुलिस ने किया अंधे कत्ल का खुलासा, अवैध संबंधों के चलते हुई थी हत्या

शिकायत की पुष्टि होने के बाद योजनाबद्ध तरीके से फरियादी ठेकेदार रवि मिश्रा को पहली किश्त के 50 रुपये देने के लिए सोमवार को एसडीओ अजय कुमार सिंगौर के पास भेजा गया। ठेकेदार ने कटनी के माधवनगर गेट के पास एसडीओ सिंगौर को जैसे ही पैसे दिये, उसी समय लोकायुक्त की टीम ने दबिश देकर उसे रिश्वत के पैसों के साथ रंगेहाथों गिरफ्तार कर लिया। उन्होंने बताया कि लोकायुक्त पुलिस ने एसडीओ अजय कुमार सिंगौर के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम के तहत प्रकरण दर्ज किया है और फिलहाल आगे की कार्रवाई जारी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।