उत्तर भारत में पड़ रही है कड़ाके की ठंड, कई जगहों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  दिसंबर 25, 2020   11:29
उत्तर भारत में पड़ रही है कड़ाके की ठंड, कई जगहों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा

उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में गुरुवार को कड़ाके की ठंड रही, जबकि पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में कई स्थानों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा। कश्मीर में ठंड की स्थिति में मामूली सुधार हुआ क्योंकि पूरी घाटी में न्यूनतम तापमान थोड़ा बढ़ गया है

नयी दिल्ली। उत्तर भारत के अधिकांश हिस्सों में गुरुवार को कड़ाके की ठंड रही, जबकि पंजाब, हरियाणा और राजस्थान में कई स्थानों पर न्यूनतम तापमान सामान्य से कम रहा। कश्मीर में ठंड की स्थिति में मामूली सुधार हुआ क्योंकि पूरी घाटी में न्यूनतम तापमान थोड़ा बढ़ गया है, हालां​​कि मौसम विभाग ने शनिवार से दो दिनों तक हल्की बर्फबारी की संभावना जताई है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में, न्यूनतम तापमान लगातार दूसरे दिन पांच डिग्री सेल्सियस से नीचे रहा। विभाग ने बताया कि दिल्ली में घना कोहरा छाने के कारण बृहस्पतिवार की सुबह कई इलाकों में दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई। सफदरजंग वेधशाला में न्यूनतम तापमान 4.5 डिग्री और अधिकतम तापमान 23.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

इसे भी पढ़ें: फ्लिपकार्ट ने निदेशक मंडल में किया बदलाव, CEO कृष्णमूर्ति और केकी मिस्त्री सहित दो अन्य शामिल

विभाग के क्षेत्रीय पूर्वानुमान केन्द्र के प्रमुख कुलदीप श्रीवास्तव ने कहा, ‘‘पालम इलाके में छाये घने कोहरे के कारण सुबह साढ़े पांच से आठ बजे के बीच दृश्यता घटकर 100 मीटर रह गई थी।’’ दिल्ली में अगले दो दिनों तक शीतलहर चलने तथा तापमान के शुक्रवार को तीन डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने का अनुमान है। विभाग ने कहा कि इस दौरान ‘‘ मध्यम से घना ’’ कोहरा छाने की संभावना है। अधिकारियों ने बताया कि मैदानी इलाकों में न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस या उससे कम और सामान्य से 4.5 डिग्री सेल्सियस कम रहता है, तो आईएमडी शीतलहर की घोषणा कर देता है। हरियाणा और पंजाब में शीत लहर चली और न्यूनतम तापमान इस मौसम के सामान्य तापमान से काफी नीचे रहा। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने यहां बताया कि पंजाब के आदमपुर में न्यूनतम तापमान 1.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। लुधियाना में भी न्यूनतम तापमान 2.1 डिग्री सेल्सियस रहा।

इसे भी पढ़ें: ममता बनर्जी का केंद्रीय विश्वविद्यालय पर आरोप, कहा- मौजूदा कर्ता-धर्ता ‘‘अनिवार्य भूमिका’’ नहीं निभा रहे

इसके अलावा पंजाब के हलवारा में न्यूनतम तापमान 2.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। फरीदकोट, बठिंडा, अमृतसर, पटियाला और गुरदासपुर में न्यूनतम तापमान क्रमश: 3.6, 4.8, चार, 5.6 और 5.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस बीच, हरियाणा के अंबाला, करनाल, नारनौल, रोहतक, भिवानी और सिरसा में भी रात का तापमान क्रमश: 5.7, 2.9, 4.6, 4.6, 5.2 और 6.3 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया, जो सामान्य से कम है। दोनों राज्यों की साझा राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 4.7 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम विज्ञान विभाग के अधिकारियों ने बताया कि करनाल, अमृतसर, लुधियाना और पटियाला समेत कई स्थानों पर कोहरे के कारण दृश्यता कम रही। हिमाचल प्रदेश के केलांग, कल्पा और मंडी में तापमान शून्य से नीचे चला गया। मौसम केंद्र शिमला के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि आदिवासी जिला लाहौल-स्पीति का प्रशासनिक केंद्र केलांग राज्य में सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 8.4 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया। उन्होंने कहा कि किन्नौर जिले के कल्पा में शून्य से 2.2 कम और मंडी में 1 डिग्री सेल्सियस कम न्यूनतम तापमान दर्ज किया गया। मनाली, डलहौजी और कुफरी में न्यूनतम तापमान क्रमश: शून्य, 4.3 और 4.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उन्होंने कहा कि शिमला में न्यूनतम तापमान 4.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। मौसम केंद्र ने 27 और 28 दिसंबर को राज्य के अलग-अलग स्थानों पर बारिश और बर्फबारी का अनुमान जताया है। कश्मीर घाटी में बृहस्पतिवार को न्यूनतम तापमान में बढोत्तरी होने के बाद सर्दी में मामूली कमी आयी जबकि मौसम विभाग ने शनिवार से घाटी में दो दिन तक हल्की बर्फबारी की संभावना जतायी है।

मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि रात के तापमान में कुछ वृद्धि दर्ज की गयी है लेकिन यह लगातार जमाव बिंदु के नीचे बना हुआ है। उन्होंने बताया कि 12 दिसंबर को हुयी बर्फबारी के कारण पूरे कश्मीर में मौसम सूखा एवं सर्द है और रात का तापमान जमाव बिंदू से कुछ नीचे बना हुआ है। उन्होंने बताया कि प्रदेश की ग्रीष्मकालीन राजधानी श्रीनगर का न्यूनतम तापमान शून्य से3.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया है जो पिछली रात के मुकाबले कुछ अधिक है। पिछली रात न्यूनतम तापमान शून्य से पांच डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया था। उन्होंने बताया कि पहलगांव में न्यूनतम तापमान शून्य से 5.2 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया जो पिछली रात के शून्य के नीचे 6.6 डिग्री सेल्सियस की अपेक्षा अधिक है। उन्होंने बताया कि गुलमर्ग का न्यूनतम तापमान शून्य के नीचे 5.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो बुधवार की रात की शून्य के नीचे छह डिग्री सेल्सियस की अपेक्षा अधिक है। घाटी में गुलमर्ग सबसे सर्द स्थान दर्ज किया गया।

इसी प्रकार काजीगुंड में न्यूनतम तापमान शून्य के नीचे 3.4 डिग्री सेल्सियस, कुपवाड़ा मेंशून्य के नीचे 3.8 डिग्री सेल्सियस, कोकेरनाग में शून्य के नीचे तीन डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। उत्तर प्रदेश में पिछले 24 घंटे में शीतलहर चलने से ठंड का प्रकोप बढ़ गया है। वहीं, बृहस्पतिवार सुबह घना कोहरा छाए रहने से लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। मौसम विभाग के अनुसार प्रदेश के सभी जिलों में रात के तापमान में कोई खास बदलाव नहीं होने वाला है। गोरखपुर, बरेली, मुरादाबाद, अयोध्या, लखनऊ, प्रयागराज, कानपुर जिलों में न्यूनतम तापमान सामान्य से कम दर्ज किया गया। राज्य में सबसे कम 2.5 डिग्री सेल्सियस तापमान मुजफ्फरनगर में दर्ज किया गया, जबकि झांसी में सर्वाधिक 26.1 डिग्री सेल्सियस तापमान दर्ज किया गया। मौसम विभाग ने राज्य में आम तौर पर मौसम शुष्क रहने और घना कोहरा छाए रहने का अनुमान जताया है। राजस्थान में न्यूनतम तापमान में मामूली वृद्धि से लोगों को ठंड से कुछ राहत मिली है। राज्य में बुधवार की रात सबसे कम तापमान माउंट आबू में एक डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

मौसम विभाग के प्रवक्ता के अनुसार पिछले 24 घंटे में राज्य के एकमात्र पर्वतीय पर्यटन स्थल माउंट आबू में न्यूनतम तापमान 1.0 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। वहीं मैदानी इलाकों में चुरू में 4.8 डिग्री सेल्सियस तापमान रहा। इसी तरह बुधवार की रात पिलानी में न्यूनतम तापमान 4.9 डिग्री , सीकर और गंगानगर में 6.0 डिग्री, भीलवाड़ा में 6.5 डिग्री सेल्सियस, चित्तौड़गढ़ में 7.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। इस बीच राज्य में दिन का तापमान भी 24 डिग्री सेल्सियस या उससे ऊपर चला गया है। मौसम विभाग के अनुसार आगामी 24 घंटे में राज्य में मौसम आमतौर पर शुष्क रहने का अनुमान है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।