भतीजे अजित से मुलाकात के बाद शरद पवार ने कहा, चिंता की कोई बात नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 28, 2019   18:06
भतीजे अजित से मुलाकात के बाद शरद पवार ने कहा, चिंता की कोई बात नहीं

शरद पवार की बेटी और पार्टी सांसद सुप्रिया सुले भी बैठक में मौजूद थीं। कुछ दिन पहले डेंगू से पीड़ित होने का पता चलने के बाद चिकित्सकों ने सुप्रिया को आराम की सलाह दी थी।

मुंबई। राकांपा प्रमुख शरद पवार ने अपने भतीजे अजित पवार के इस्तीफे के एक दिन बाद शनिवार को पारिवारिक मतभेद की अटकलों को खारिज कर दिया।  अजित ने शनिवार को मुंबई में अपने चाचा शरद पवार से उनके आवास पर मुलाकात की। उन्होंने शुक्रवार को महाराष्ट्र विधानसभा से इस्तीफा दे दिया था। शरद पवार ने बैठक के बाद पत्रकारों से कहा,  चिंता की कोई बात नहीं है। वह (अजित पवार) खुद ही आपको (मीडिया को) विस्तृत जानकारी देंगे। 

शरद पवार की बेटी और पार्टी सांसद सुप्रिया सुले भी बैठक में मौजूद थीं। कुछ दिन पहले डेंगू से पीड़ित होने का पता चलने के बाद चिकित्सकों ने सुप्रिया को आराम की सलाह दी थी। पवार परिवार से बाहर के किसी व्यक्ति ने बैठक में शिरकत नहीं की।  अजित जल्द ही पत्रकारों को संबोधित करेंगे। बारामती विधानसभा क्षेत्र से विधायक अजित पवार ने शुक्रवार शाम इस्तीफा देकर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेताओं और कार्यकर्ताओं को हैरत में डाल दिया था। विधानसभा अध्यक्ष हरिभाउ बागड़े ने उनका इस्तीफा स्वीकार कर लिया था। उन्होंने अपने इस्तीफे का कारण नहीं बताया। 

इसे भी पढ़ें: भतीजे ने छोड़ी विधायकी, चाचा शरद बोले- मुलाकात कर उन्हें समझाउंगा

प्रवर्तन निदेशालय ने हाल ही में शरद पवार के खिलाफ महाराष्ट्र राज्य सहकारी बैंक (एमएससीबी) घोटाले के संबंध में मामला दर्ज किया है। धन शोधन विरोधी एजेंसी प्रवर्तन निदेशालय ने 25,000 करोड़ रुपये के कथित गबन मामले में अजित के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। खबरों के अनुसार अजित पवार भतीजे रोहित पवार के राजनीति में संभावित पदार्पण को लेकर चिंतित थे। हालांकि शरद पवार ने पारिवारिक मतभेद से इनकार किया। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।