सपा की सहयोगी दलों की बैठक से शिवपाल नदारद, अटकलों का दौर शुरू

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 29, 2022   22:31
सपा की सहयोगी दलों की बैठक से शिवपाल नदारद, अटकलों का दौर शुरू

अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव, जिन्होंने जसवंत नगर से सपा के टिकट से चुनाव लड़ा था, बैठक में मौजूद नहीं थे। यह अटकलें लगायी जा रही हैं कि वह नाखुश हैं क्योंकि उन्हें पिछले सप्ताह सपा विधायकों की बैठक में नहीं बुलाया गया था।

लखनऊ। समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने मंगलवार को पार्टी के सहयोगी अपना दल (के), सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) और राष्ट्रीय लोक दल (रालोद) के नेता के साथ बैठक की और भविष्य की रणनीति पर चर्चा की। अखिलेश के चाचा शिवपाल यादव, जिन्होंने जसवंत नगर से सपा के टिकट से चुनाव लड़ा था, बैठक में मौजूद नहीं थे। यह अटकलें लगायी जा रही हैं कि वह नाखुश हैं क्योंकि उन्हें पिछले सप्ताह सपा विधायकों की बैठक में नहीं बुलाया गया था। 

इसे भी पढ़ें: चुनाव के बाद चाचा-भतीजे में रार! बैठक में न बुलाए जाने से नाराज शिवपाल पहुंचे दिल्ली, मुलायम से की अखिलेश की शिकायत

बैठक में उपस्थित लोगों में एसबीएसपी नेता ओम प्रकाश राजभर, रालोद नेता राजपाल बाल्यान और अपना दल (के) नेता पल्लवी पटेल शामिल थीं, जिन्होंने विधानसभा चुनाव में सिराथू सीट से उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य को हराया था। बैठक के बारे में पूछे जाने पर बाल्यान ने कहा, हमने सदन (विधानसभा) में अपनी भविष्य की रणनीति के बारे में चर्चा की। हम किसानों और मजदूरों के लिए संघर्ष करना जारी रखेंगे और उनके लिए अपनी लड़ाई जारी रखेंगे। 

इसे भी पढ़ें: स्पीकर के चुनाव के बहाने अखिलेश का तंज, राइट से आए हैं, गेम का हिस्सा मत बनिएगा

शिवपाल की अनुपस्थिति को तवज्जो नहीं देते हुए एसबीएसपी नेता ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि उनके गठबंधन में कोई मतभेद नहीं है। इटावा में मौजूद शिवपाल से जब पत्रकारों ने पूछा तो उन्होंने कहा, मैं कुछ नहीं कहूंगा। अगर मेरे पास साझा करने के लिए कुछ है, तो मैं आपको (मीडिया) फोन करूंगा। हाल ही में हुए चुनाव में सपा को 111 सीट मिली थीं, जबकि सहयोगी दल रालोद और एसबीएसपी को क्रमश: आठ और छह सीट मिली थीं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।