चीन से तनाव के बीच आम लोगों के लिए खुला सियाचिन का रास्ता

चीन से तनाव के बीच आम लोगों के लिए खुला सियाचिन का रास्ता

सेना ने आम लोगों के लिए सियाचिन बेस कैंप और लद्दाख में कुमार पोस्ट को खोल दिया है। सियाचिन जाने के लिए सेना द्वारा परमिशन दिया जाएगा। इसके लिए टूरिस्टों को अप्लाई करना होगा।

भारत और चीन के बीच इन दिनों सीमा पर तनाव चल रहा है। चीन के साथ सीमा पर तनावपूर्ण माहौल के बीच ही भारत ने एक बड़ा कदम उठाया है। सेना ने सियाचिन बेस कैंप और लद्दाख में कुमार पोस्ट को नागरिकों के लिए खोल दिया है। दुनिया के सबसे ऊंचे नॉन-पोलर ग्लेशियर खोलने का फैसला पिछले साल अक्टूबर में ही हो चुका था। लेकिन इसे लागू करने का फैसला चीन के साथ सीमा पर तनाव के बीच उठाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: तनातनी के बीच चीन ने चेंगदू में अमेरिकी महावाणिज्य दूतावास किया बंद, इमारत को कब्जे में लिया

जानकारी के मुताबिक सियाचिन बेस कैंप लेह से करीब 225 किलोमीटर उत्तर में है। अभी यह खारदुंग ला पास और नुब्रा नदी चीन से तनाव के बीच के किनारे बनी ब्लैक टॉप रोड  से जुड़ा है। बेस कैंप करीब 11,000 फीट की ऊंचाई पर है। जबकि कुमार पोस्ट 15,000 फीट ऊंचाई पर।

कैसे मिलेगा पास

सियाचिन जाने के लिए सेना द्वारा परमिशन दिया जाएगा। इसके लिए टूरिस्टों को अप्लाई करना होगा, जिसके बाद वहां से अनुमति मिलेगी। अनुमति मिलने के बाद सेना की निगरानी में ही पर्यटक घूम सकेंगे। बता दें कि सियाचिन का तापमान बहुत कम रहता है और वहां आम लोगों को जाना मुश्किल भरा हो सकता है। फिलहाल लेह से 40 किलोमीटर के दायरे में ही गैर-स्था‍नीय लोग जा सकते हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।