भगवंत मान के मुरीद हुए सिद्धू, 50 मिनट की मुलाकात के बाद जमकर की तारीफ, बताया जमीनी नेता

भगवंत मान के मुरीद हुए सिद्धू, 50 मिनट की मुलाकात के बाद जमकर की तारीफ, बताया जमीनी नेता
ANI

दोनों नेताओं के बीच लगभग 50 मिनट तक बातचीत हुई है। मुलाकात के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने भगवंत मान की जमकर तारीफ कर दी है। सिद्धू ने अपने मुलाकात को सार्थक बताया और कहा कि हमने उन मुद्दों पर बात की जो कि लंबे समय से हमारे एजेंडा का हिस्सा था।

पंजाब में नवजोत सिंह सिद्धू को लेकर अक्सर चर्चाएं गर्म रहती है। इन सबके बीच पंजाब कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने आज पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान से मुलाकात की। दोनों नेताओं के बीच लगभग 50 मिनट तक बातचीत हुई है। मुलाकात के बाद नवजोत सिंह सिद्धू ने भगवंत मान की जमकर तारीफ कर दी है। सिद्धू ने अपने मुलाकात को सार्थक बताया और कहा कि हमने उन मुद्दों पर बात की जो कि लंबे समय से हमारे एजेंडा का हिस्सा था। हमने लोगों की आय बढ़ाने के बारे में बात की जो कि पंजाब की बड़ी समस्या है। इसके साथ ही सिद्धू ने सीएम भगवंत मान को एक ग्रहणशील इंसान बताया। सिद्धू ने कहा कि सीएम ने उनसे जनता की उम्मीदों पर खरे उतरने का वादा किया है।

इसे भी पढ़ें: बग्गा के समर्थन में उतरे नवजोत सिंह सिद्धू, बोले- वैचारिक मतभेद हो सकता है मगर केजरीवाल और मान कर रहे हैं पाप

भगवंत मान की तारीफ करते हुए सिद्धू ने उन्हें डाउन टू अर्थ बता दिया। उन्होंने कहा कि मुझे लग ही नहीं रहा था कि मैं किसी मुख्यमंत्री से बात कर रहा हूं। भगवंत मान में किसी तरह का ईगो नहीं है और उन्होंने धैर्य के साथ सभी बातों को सुना है। इसके साथ ही सिद्धू ने यह भी कह दिया कि 15 साल पहले जैसे भगवंत मान उनसे मुलाकात करते थे, ठीक वैसे ही मुलाकात रही। पंजाब की समस्याओं को लेकर हमने चर्चा की है। आपको बता दें कि भगवंत मान और नवजोत सिंह सिद्धू की मुलाकात लाफ्टर चैलेंज शो के दौरान हुई थी। इस शो में सिद्धू जज हुआ करते थे जबकि भगवंत मान प्रतिभागी थे। आज जब दोनों नेताओं की मुलाकात हुई है तो ऐसे में पंजाब में सिद्धू को लेकर एक बार फिर से चर्चा तेज हो गई है।

इसे भी पढ़ें: सिद्धू ने दिखाए बगावती तेवर, ट्वीट कर कहा- जवाब देने का हक़, मैंने वक्त को दे रखा है

दरअसल, पंजाब विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की करारी हार के बाद सिद्धू लगातार अपनी ही पार्टी के नेताओं के निशाने पर हैं। इतना ही नहीं, सिद्धू के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही करने के लिए भी चिट्ठी पार्टी की ओर से लिख दी गई है। चुनावी नतीजों के बाद स्थिति से इस्तीफा लिया गया। उसके बाद वह कहीं ना कहीं लगातार हाशिए पर जाते दिखाई दे रहे हैं। सिद्धू ने बगावत के भी संकेत दे दिए हैं। आज ही सिद्धू ने एक और ट्वीट कर इन कयासों को बल दे दिया। अपने ट्वीट में सिद्धू ने लिखा कि वतन के इश्क़ में अपना मुक़ाम पैदा कर, नया ज़माना नयी सुबह-शाम पैदा कर . . . ।। तेरा इतिहास फ़क़ीरी है, अमीरी नहीं, ख़ुदी ना बेच, फ़क़ीरी में नाम पैदा कर  . . . ।।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।