सिक्किम सरकार महिला कर्मियों को नवजातों की देखभाल के लिए सहायक उपलब्ध कराएगी

Sikkim
Prabhasakshi
सिक्किम में प्रजनन दर को बढ़ावा देने के लिए, मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने कहा कि महिला सरकारी कर्मचारियों को उनके नवजात बच्चों की देखभाल के लिए निशुल्क सहायक उपलब्ध कराए जाएंगे।

गंगटोक। सिक्किम में प्रजनन दर को बढ़ावा देने के लिए, मुख्यमंत्री प्रेम सिंह तमांग ने कहा कि महिला सरकारी कर्मचारियों को उनके नवजात बच्चों की देखभाल के लिए निशुल्क सहायक उपलब्ध कराए जाएंगे। राज्य की राजधानी के पास सरमसा गार्डन में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए तमांग ने कहा कि उनकी सरकार ने प्रस्ताव दिया है कि 40 साल या इससे अधिक उम्र की महिलाओं को भर्ती किया जाए जिन्हें महिला सरकारी कर्मचारियों के घरों पर एक साल के लिए उनके नवजात बच्चों की देखभाल के लिए तैनात किया जाए।

इसे भी पढ़ें: भारत में वैज्ञानिक क्षमता थी लेकिन नेतृत्व की कमी थी, जो अब नहीं रही : मुख्यमंत्री चौहान

तमांग ने कहा, “ सिक्किम में स्थानीय मूल आबादी में प्रजनन की कम दर चिंता का गंभीर मामला है.... हमें इस प्रक्रिया को बदलने के लिए वह सबकुछ करना चाहिए जो हमारे बस में है।” मुख्यमंत्री ने कहा कि उनकी सरकार महिला कर्मचारियों की इस चिंता से वाकिफ है कि अगर वे मां बनने का फैसला करती हैं तो उनके नवजातों की देखभाल कौन करेगा।

इसे भी पढ़ें: जेम्स कैमरून ने राजामौली से कहा- यदि आप हॉलीवुड फिल्म बनाना चाहते हैं, तो आइए बात करते हैं

उन्होंने कहा कि महिला सरकारी कर्मचारियों के घर पर उनके नवजात बच्चों की देखभाल के लिए महिला सहायकों को तैनात करने से उनकी चिंता का निदान होगा और वे अब मातृत्व की अपनी इच्छा को पूरा करने के लिए उत्सुक होंगी। तमांग ने कहा कि महिला देखभाल सहायक को प्रति माह 10,000 रुपये का पारिश्रमिक दिया जाएगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि आम लोग भी कई बच्चे पैदा करने के लिए वित्तीय सहायता के पात्र होंगे, जिसका विवरण स्वास्थ्य और महिला एवं बाल देखभाल विभागों द्वारा तैयार किया जाएगा।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़