कुछ नेता अब भी अनुच्छेद 370 बहाल होने का सपना देख रहे, जो असंभव है: J&K BJP अध्यक्ष रवींद्र रैना

Some leaders still dreaming about restoration of Art 370: JK BJP head
दिल्ली में सर्वदलीय बैठक में भाग लेने के बाद लौटने पर यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत में रैना ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर के पूर्ण राज्य के दर्जे को बहाल करने के लिए वचनबद्ध है।

जम्मू। जम्मू कश्मीर भाजपा के अध्यक्ष रवींद्र रैना ने शनिवार को कहा कि कुछ नेता अब भी अनुच्छेद 370 के बहाल होने का सपना देख रहे हैं जो असंभव है। उन्होंने कहा कि राजनीतिक दलों को इस अध्याय को पीछे छोड़ देना चाहिए और जब भी विधानसभा चुनाव हों, उनमें भाग लेना चाहिए। दिल्ली में सर्वदलीय बैठक में भाग लेने के बाद लौटने पर यहां पार्टी मुख्यालय में संवाददाताओं से बातचीत में रैना ने यह भी कहा कि केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर के पूर्ण राज्य के दर्जे को बहाल करने के लिए वचनबद्ध है।

इसे भी पढ़ें: 370 हटाने में भाजपा को 70 साल लगे, हमें 70 महीने लगेंगे तो भी अपने मिशन से पीछे नहीं हटेंगे: उमर अब्दुल्ला

रैना ने कहा, ‘‘कुछ नेता अनुच्छेद 370 बहाल करने का सपना अब भी देख रहे हैं जिसने जम्मू कश्मीर में अलगाववाद, आतंकवाद तथा पाकिस्तानी विचारधारा को जन्म दिया और लाखों लोगों की जान चली गयी तथा लोगों को परेशानी हुई। इसका बहाल होना नामुमकिन है। यह कयामत होने तक तो बहाल नहीं हो सकता।’’ रैना, पूर्व उप मुख्यमंत्रियों निर्मल सिंह तथा कवींद्र गुप्ता ने 24 जून को प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में जम्मू कश्मीर पर सर्वदलीय बैठक में हिस्सा लिया था। रैना ने कहा कि उक्त बैठक ने केंद्रशासित प्रदेश में करीब ढाई साल से बने राजनीतिक गतिरोध को समाप्त किया है। पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती के अनुच्छेद 370 बहाल नहीं होने तक चुनाव में भाग नहीं लेने के दावे के बारे में पूछे जाने पर रैना ने कहा कि पंजीकृत राजनीतिक दलों को अब आगे बढ़ना चाहिए तथा जम्मू कश्मीर की जनता के कल्याण के लिए काम करना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़