सपा सांसद बोले- भाजपा दोबारा सत्ता में आई तो हम नहीं कर सकेंगे दूसरी शादी, संबित पात्रा का पलटवार

सपा सांसद बोले- भाजपा दोबारा सत्ता में आई तो हम नहीं कर सकेंगे दूसरी शादी, संबित पात्रा का पलटवार

एसटी हसन ने कहा कि भाजपा जल्दी कॉमन सिविल कोड कानून लाने वाली है जो मुसलमानों के पर्सनल लॉ को खत्म करेगा। दरअसल, समाजवादी पार्टी के सांसद मुरादाबाद में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने यह बातें कही हैं।

उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने है। राजनीति गर्म होते जा रही है। इन सब के बीच समाजवादी पार्टी के एक सांसद ने भाजपा पर तीखा पलटवार करते हुए विवादित बयान दे डाला है। दरअसल, सपा सांसद एसटी हसन ने साफ तौर पर मुसलमानों से अपील की कि आने वाले चुनाव में तुम मत बंट जाना। हमारा मकसद भाजपा को हराना है। इसके साथ ही एसटी हसन ने कहा कि भाजपा जल्दी कॉमन सिविल कोड कानून लाने वाली है जो मुसलमानों के पर्सनल लॉ को खत्म करेगा। दरअसल, समाजवादी पार्टी के सांसद मुरादाबाद में एक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। इसी दौरान उन्होंने यह बातें कही हैं।

अपने बयान में सपा सांसद ने कहा कि सिर्फ कौम के लिए नहीं, हिंदुस्तान के लिए नहीं, हिंदू-मुस्लिम एकता के लिए मैं आपसे दरख्वास्त करूंगा कि चुनाव आ रहे हैं, अल्लाह के वास्ते इस बार मत बंट जाना। हमारा एक ही मकसद है, भाजपा को हराना। बीजेपी ने जो माहौल पैदा कर दिया है वह हमें 10 सालों बाद एहसास होगा। हम कहां पहुंच गए हैं। उन्होंने कहा कि अगर कॉमन सिविल कोड आता है तो मुस्लिम पर्सनल लॉ खत्म हो जाएगा। हम दूसरी शादी नहीं कर सकेंगे। आर्टिकल 29 और 30 भी खत्म हो जाएगा।

भाजपा का प्रवक्ता

इसी को लेकर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा ने अब समाजवादी पार्टी पर पलटवार किया है। इसके साथ ही उन्होंने सपा सांसद पर भी तंज कसा है। एक निजी चैनल के वीडियो को शेयर करते हुए संबित पात्रा ने ट्वीट कर लिखा कि चुनाव आ रहा है, अल्लाह के वास्ते बंट मत जाना ..” समाजवादी पार्टी के सांसद एस टी हसन कह रहें है! यदि यही कोई भाजपा सांसद “हिंदुओं” के लिए कह दे तो उसे अंग्रेज़ी में “Polarisation” और “Islamophobia” कह बवाल काट देते! आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश में अगले साल विधानसभा के चुनाव होने है। इस चुनाव में समाजवादी पार्टी और भाजपा के बीच कड़ी टक्कर मानी जा रही है। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।