सपा सांसद ने रास में उठाया गायों की मौत का मुद्दा, कहा- आए दिन मवेशियों की मौत की खबरें आती हैं

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 17 2019 3:37PM
सपा सांसद ने रास में उठाया गायों की मौत का मुद्दा, कहा- आए दिन मवेशियों की मौत की खबरें आती हैं
Image Source: Google

माकपा की झरना दास वैद्य ने महिलाओं को रोजगार का मुद्दा उठाते हुए कहा कि दूसरे देशों की तुलना में भारत में महिला कामगारों की संख्या केवल 22 फीसदी है। इनमें से अधिकतर महिलाएं निजी क्षेत्रों में काम कर रही हैं।

नयी दिल्ली। राज्यसभा में विभिन्न दलों के सदस्यों ने बुधवार को सरकारी गौशालाओं में गायों की मौत, स्मार्ट टीवी के जरिये हैकरों द्वारा लोगों की निजता का उल्लंघन किए जाने और महिलाओं को नौकरियों तथा रोजगारों में प्राथमिकता दिए जाने जैसे अलग अलग मुद्दे उठाए तथा सरकार से समाधान की मांग की। शून्यकाल के दौरान उच्च सदन में सपा के संजय सेठ ने गौशालाओं में गायों की मौत का मुद्दा उठाते हुए कहा कि गौशालाओं में आए दिन मवेशियों की मौत की खबरें आती हैं। मरने वाले मवेशियों में बड़ी संख्या गायों की है। उत्तर प्रदेश में भी सरकारी गौशालाओं में कई गायों की मौत हुई है।उन्होंने कहा कि इन गौशालाओं में चारा और पानी की समुचित व्यवस्था नहीं है। स्थान पर्याप्त न होने के बावजूद गौशाला में 150 गायें तक रखी जा रही है।उन्होंने कहा कि गायों की आड़ में एक विशेष समुदाय को निशाना बनाया जाता है, चाहे लोग गौशाला में रखने के लिए गाय को क्यों न ले जा रहे हों।इस पर सभापति एम वेंकैया नायडू ने उन्हें अपना मुद्दा केवल गायों और गौशाला तक ही सीमित रखने को कहा।

इसे भी पढ़ें: बीजद ने ओडिशा के विशेष राज्य का दर्जा और आर्थिक सहायता देने की मांग की

सेठ ने मांग की गौशाला का समुचित रखरखाव होना चाहिए, स्थान के अनुसार ही सीमित संख्या में गायों को रखना चाहिए और उनके लिए चारे तथा पानी की व्यवस्था की जानी चाहिए। सपा सदस्य ने यह भी कहा कि इस विषय को वोट बैंक के नजरिये से नहीं लिया जाना चाहिए।भाजपा के अमर शंकर साबले ने शून्यकाल में स्मार्ट टीवी के जरिये हैकरों द्वारा लोगों की निजता का उल्लंघन किए जाने का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा कि हाल ही में सूरत में दो ऐसे मामले सामने आए जब हैकरों ने स्मार्ट टीवी के माध्यम से, दो दंपतियों के निजी पलों का वीडियो बना लिया और उसे इंटरनेट पर डाल दिया।साबले ने साइबर सुरक्षा की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि प्रौद्योगिकी का दुरूपयोग कई बार खतरनाक हो जाता है। उन्होंने सरकार से इस संबंध में कठोर कदम उठाने का अनुरोध किया।सभापति नायडू ने कहा ‘‘यह अत्यंत संवेदनशील और गंभीर मुद्दा है तथा उम्मीद है कि सरकार इस पर ध्यान देगी एवं उपाय सोचेगी।’’शून्यकाल के दौरान ही भाजपा के गोपाल नारायण सिंह ने बनारस से गया तक जाने वाले राष्ट्रीय राजमार्ग दो को पिछले तीन साल से छह लेन का बनाने के लिए काम चलने का मुद्दा उठाया और इसे शीघ्र पूरा किए जाने की मांग की।

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा में बोले अमित शाह, घुसपैठियों को करेंगे देश के बाहर



उन्होंने कहा कि हर दिन इस मार्ग पर कई घंटे जाम रहता है। कांग्रेस सदस्य के सी राममूर्ति ने यूनेस्को टैग के लिए केंद्र सरकार द्वारा प्रस्ताव भेजे जाने का मुद्दा उठाते हुए कहा कि हर बार केंद्र दो प्रस्ताव भेजता है लेकिन इस बार केवल एक ही प्रस्ताव भेजा गया। उन्होंने कहा कि कर्नाटक एवं तेलंगाना में कई ऐसे स्थल हैं जिन्हें यूनेस्को टैग मिलना चाहिए और सरकार इस पर ध्यान दे।इसी पार्टी की वानसुक सियाम ने शिलांग में स्थित नॉर्थ ईस्टर्न इंदिरा गांधी रीजनल इंस्टीट्यूट से जुड़ा मुद्दा उठाते हुए कहा कि इस संस्थान की उपेक्षा की जा रही है जिसकी वजह से वहां अव्यवस्था व्याप्त है। भाजपा के विजयपाल सिंह तोमर ने मेरठ से दिल्ली के रास्ते पर लगने वाले जाम का मुद्दा उठाते हुए कहा कि हर दिन औसतन पांच लाख लोगों का आवागमन होता है। आपात स्थिति में यह जाम खतरनाक हो जाता है। उन्होंने कहा कि स्थिति को देखते हुए 2014 में दिल्ली मेरठ एक्सप्रेसवे बनाने की मंजूरी केंद्र ने दी और 2015 में काम शुरू हुआ। यह परियोजना तीन साल में पूरी होनी थी लेकिन काम धीमी गति से चल रहा है। उन्होंने केंद्र से यह परियोजना जल्द पूरी किए जाने की मांग की।

इसे भी पढ़ें: बागी बलिया के नीरज सपा छोड़ बनेंगे समाजवादी भगवाधारी

माकपा की झरना दास वैद्य ने महिलाओं को रोजगार का मुद्दा उठाते हुए कहा कि दूसरे देशों की तुलना में भारत में महिला कामगारों की संख्या केवल 22 फीसदी है। इनमें से अधिकतर महिलाएं निजी क्षेत्रों में काम कर रही हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी के बाद बेरोजगार होने वालों में महिलाओं की संख्या अधिक थी। उन्होंने सरकार से नौकरियों और रोजगार में महिलाओं को प्राथमिकता दिए जाने की मांग की।इनेलो के राम कुमार कश्यप ने राष्ट्रीय राजमार्गों पर लगने वाले जाम का मुद्दा उठाया। उन्होंने कहा ‘‘टोल प्लाजा पर तो हालत और अधिक गंभीर हो जाती है। वहां बहुत देर तक वाहन फंसे रहते हैं।’’कश्यप ने मांग की कि टोल प्लाजा पर वाहनों के लिए समय तय किया जाना चाहिए ताकि जाम से बचा जा सके। अन्नाद्रमुक सदस्य के आर अर्जुनन ने नीलगिरी जिले में रहने वाले बड़गा समुदाय को अनुसूचित जनजाति की सूची में शामिल किए जाने की मांग की। फिलहाल यह समुदाय अन्य पिछड़ा वर्ग की सूची में है।

इसे भी पढ़ें: लोकतंत्र के तीनों स्तंभों के बीच अधिकारों ओर सीमाओं पर चर्चा करने की जरूरत: नायडू

कांग्रेस सदस्य राजमणि पटेल ने कहा कि देश की आबादी में करीब 52 फीसदी की हिस्सेदारी रखने वाले अन्य पिछड़ा वर्ग के विद्यार्थियों के लिए प्री मैट्रिक एवं पोस्ट मैट्रिक आवासीय छात्रावास संचालित किए जाने की मांग की। भाजपा सदस्य डॉ डी पी वत्स ने हरियाणा के हिसार से पंजाब के अमृतसर तक एक सीधी ट्रेन चलाए जाने की मांग की। उन्होंने हासी रोहतक रेलवे लाइन का भी निर्माण शीघ्र किए जाने का अनुरोध किया।जदयू सदस्य कहकशां परवीन ने भागलपुर में रेल मंडल कार्यालय शीघ्र बनाए जाने की मांग की।कांग्रेस के पी एल पुनिया ने छत्तीसगढ़ के लिए केरोसिन के वार्षिक आवंटन में कटौती का मुद्दा उठाया और आवंटन बढ़ाने की मांग की।शून्यकाल में ही टीआरएस के डॉ बंडा प्रकाश, अन्नाद्रमुक की विजिला सत्यानंद और मनोनीत राकेश सिन्हा ने भी लोक महत्व के विभिन्न मुद्दे उठाए।



रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story