लोकतंत्र के तीनों स्तंभों के बीच अधिकारों ओर सीमाओं पर चर्चा करने की जरूरत: नायडू

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 15 2019 5:22PM
लोकतंत्र के तीनों स्तंभों के बीच अधिकारों ओर सीमाओं पर चर्चा करने की जरूरत: नायडू
Image Source: Google

भाजपा सदस्य ने कहा कि हाल ही में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश ने प्रधानमंत्री को लिखा है कि नियुक्तियां गुणवत्ता के आधार पर नहीं की जा रही हैं।उन्होंने सुझाव दिया कि उच्च न्यायपालिका में योग्य प्रतिभागियों का चयन सुनिश्चित किए जाने के लिए केंद्रीय लोक सेवा आयोग के माध्यम से अखिल भारतीय परीक्षा ली जानी चाहिए।विभिन्न दलों के सदस्यों ने बाजपेयी के इस मुद्दे से स्वयं को संबद्ध किया।

नयी दिल्ली। राज्यसभा के सभापति एम वेंकैया नायडू ने सोमवार को कहा कि लोकतंत्र के तीनों स्तंभों... न्यायपालिका, विधायिका और कार्यपालिका के बीच अधिकारों ओर सीमाओं पर चर्चा करने की जरूरत है। सभापति ने यह बात तब कही जब शून्यकाल के दौरान भाजपा के अशोक बाजपेयी ने उच्च न्यायालयों और उच्चतम न्यायालय में न्यायाधीशों के चयन के लिए अखिल भारतीय परीक्षा का आयोजन किए जाने की मांग की। बाजपेयी ने कहा कि भारत के संविधान में कोलेजियम शब्द का जिक्र नहीं है, हालांकि कोलेजियम व्यवस्था के तहत ही वर्तमान में उच्च न्यायपालिका में न्यायाधीशों की नियुक्ति एवं उनका स्थानांतरण होता है।

इसे भी पढ़ें: राज्यसभा में जनसंख्या विनियमन विधेयक सहित 11 निजी विधेयक पेश

भाजपा सदस्य ने कहा कि हाल ही में इलाहाबाद उच्च न्यायालय के एक न्यायाधीश ने प्रधानमंत्री को लिखा है कि नियुक्तियां गुणवत्ता के आधार पर नहीं की जा रही हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि उच्च न्यायपालिका में योग्य प्रतिभागियों का चयन सुनिश्चित किए जाने के लिए केंद्रीय लोक सेवा आयोग के माध्यम से अखिल भारतीय परीक्षा ली जानी चाहिए।विभिन्न दलों के सदस्यों ने बाजपेयी के इस मुद्दे से स्वयं को संबद्ध किया। इस पर सभापति नायडू ने कहा कि सदस्यों की एक राय को देखते हुए हमें ‘‘लोकतंत्र के तीनों स्तंभों... न्यायपालिका, विधायिका और कार्यपालिका के बीच अधिकारों ओर सीमाओं पर चर्चा करने की जरूरत है। ’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video