मुस्लिम महिलाओं से बलात्कार की धमकी देने वाले महंत की गिरफ्तारी नहीं होने पर सपा ने उठाए सवाल

Akhilesh Yadav
उत्तर प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) ने सीतापुर जिले में मुस्लिम महिलाओं से बलात्कार की खुली धमकी देने वाले एक कथित महंत को अब तक गिरफ्तार नहीं किए जाने पर सवाल उठाए हैं। सपा ने अपने आधिकारिक हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा भाईचारे और सद्भावना की सबसे बड़ी दुश्मन भाजपा सरकार।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्य विपक्षी दल समाजवादी पार्टी (सपा) ने सीतापुर जिले में मुस्लिम महिलाओं से बलात्कार की खुली धमकी देने वाले एक कथित महंत को अब तक गिरफ्तार नहीं किए जाने पर सवाल उठाए हैं। सपा ने अपने आधिकारिक हैंडल से किए गए ट्वीट में कहा भाईचारे और सद्भावना की सबसे बड़ी दुश्मन भाजपा सरकार। सीतापुर में धर्म विशेष की महिलाओं को पुलिस की मौजूदगी में रेप की धमकी देने वाले आरोपी की अब तक गिरफ्तारी न होना घोर निंदनीय है। पुलिस अब तक क्यों है खाली हाथ? जवाब दे सरकार। पार्टी ने इसी ट्वीट में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से पूछा है कि आखिर ऐसी भड़काऊ टिप्पणी करने वाले महंत पर बुलडोजर कब चलेगा।

इसे भी पढ़ें: मंत्रिमंडल ने राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान को 2025-26 तक बढ़ाने को मंजूरी दी

इसी बीच, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भी इस मुद्दे पर यह गए एक ट्वीट में कहा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से जनता की ये अपेक्षा है कि जो लोग संतों का चोला ओढ़कर, साधु-संतों का नाम बदनाम कर रहे हैं और इसकी आड़ में अपने आपराधिक कुकृत्य और ज़मीन हड़पने के अवैध कारनामों पर पर्दा डाल रहे हैं, ऐसे सामाजिक सौहार्द बिगाड़नेवाले तत्वों पर तुरंत कार्रवाई करें। गौरतलब है कि पिछली दो अप्रैल को हिंदू नव वर्ष पर बड़ी संगत उदासीन आश्रम के महंत बजरंग मुनि उर्फ अनुपम मिश्रा ने सीतापुर जिले में कथित रूप से एक मस्जिद के सामने गाड़ी में बैठ कर लाउडस्पीकर से भड़काऊ बयान दिया था। उसने पुलिस की मौजूदगी में कहा था कि अगर कोई मुस्लिम व्यक्ति क्षेत्र की किसी हिंदू महिला या लड़की को परेशान करेगा तो वह मुसलमानों के घर में घुसकर उनकी बहू-बेटियों से बलात्कार करेगा।

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस महामारी के दौरान मुफ्त राशन से हर परिवार को मिला भोजन: भाजपा

इसके अलावा उसने मुस्लिम समाज को लेकर और भी आपत्तिजनक बातें कही थी। हालांकि बाद में उसने एक वीडियो जारी कर माफी भी मांगी थी। राष्ट्रीय महिला आयोग ने इस मामले का संज्ञान लेते हुए राज्य के पुलिस महानिदेशक को पत्र लिखकर कार्रवाई करने को कहा था। पुलिस ने इस मामले में भारतीय दंड विधान की धारा 298 (धार्मिक भावनाएं आहत करने के इरादे से भाषण देना) के तहत मुकदमा दर्ज किया है। आरोपी महंत के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं होने के बारे में जिले के अधिकारी कुछ भी बोलने से बच रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़