इंदौर मोब लीचिंग मामले पर प्रदेश के डीजीपी का बड़ा बयान, कहा- पीएफआई और एसडीपीआई की कोई भूमिका नहीं

Indore
सुयश भट्ट । Aug 27, 2021 7:08PM
चूड़ी बेचने वाले तस्लीम उर्फ अकलीम से मारपीट के बाद बड़ी संख्या में विशेष समुदाय के लोगों ने बड़ी संख्या में सेंट्रल कोतवाली थाना के बाहर प्रदर्शन किया था। इसे लेकर इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह का बयान आया था जिसमें उन्होंने कहा कि प्रदर्शन में एसडीपीआई और पीएफआई के लोगों की भूमिका सामने आई है।

भोपाल। मध्य प्रदेश के इंदौर जिले में चूड़ी बेचने वाले से मार पीट के बाद सेंट्रल कोतवाली थाने पर प्रदर्शन के मामले में प्रदेश के डीजीपी का एक बड़ा बयान सामने आया है। डीजीपी विवेक जोहरी ने कहा कि प्रदर्शन में पीएफआई और एसडीपीआई की बिल्कुल भूमिका नहीं थी।

इसे भी पढ़ें:एनएसजी के कमांडो की हुई मॉक ड्रिल, आंतकी हमले से बचने जतु चलाया एंटी टेरेसिस्ट ऑपेरशन

आपको बता दें कि चूड़ी बेचने वाले तस्लीम उर्फ अकलीम से मारपीट के बाद बड़ी संख्या में विशेष समुदाय के लोगों ने बड़ी संख्या में सेंट्रल कोतवाली थाना के बाहर प्रदर्शन किया था। इसे लेकर इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह का बयान आया था जिसमें उन्होंने कहा कि प्रदर्शन में एसडीपीआई और पीएफआई के लोगों की भूमिका सामने आई है। हालांकि अब डीजीपी विवेक जोहरी ने इस बात से इंकार कर दिया है।

इसे भी पढ़ें:उपचुनाव को लेकर बीजेपी की बैठक हुई संपन्न, मुख्यमंत्री ने दी नसीहत, कहा- स्वागत सत्कार से नेता बनाएं दूरी

दरअसल इंदौर के बाणगंगा थाना क्षेत्र के गोविंद नगर में एक विशेष समुदाय का युवक चूड़ी बेचने पहुंचा था। वहां उसका नाम पूछने के बाद कुछ लोगों ने उस पर हमला कर दिया और उसके साथ जमकर मारपीट की। वहीं युवक ने कोतवाली थाना में शिकायत की कि उसके पास मौजूद 10 हजार रुपए, आधार कार्ड, सहित अन्य दस्तावेज और 25 हजार की चूड़ियों को आरोपियों ने लूट लिया।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़