सीआईएसएफ के प्रमुख सुबोध कुमार जायसवाल को सीबीआई निदेशक नियुक्त किया गया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 25, 2021   23:04
सीआईएसएफ के प्रमुख सुबोध कुमार जायसवाल को सीबीआई निदेशक नियुक्त किया गया

मंत्रालय के आदेश में कहा गया है कि जायसवाल को दो साल के लिये केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) का निदेशक नियुक्त किया गया है। वह महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक भी रह चुके हैं।

नयी दिल्ली । सीआईएसएफ के प्रमुख सुबोध कुमार जायसवाल को मंगलवार को दो साल के लिये सीबीआई प्रमुख नियुक्त किया गया है। कार्मिक मंत्रालय के एक आदेश में यह जानकारी दी गई है। महाराष्ट्र कैडर के 1985 बैच के भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) अधिकारी जायसवाल फिलहाल केन्द्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) के महानिदेशक हैं। वह महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक भी रह चुके हैं। सीबीआई निदेशक ऋषि कुमार शुक्ला का दो साल का कार्यकाल तीन फरवरी को पूरा हो गया था, तब से एजेंसी बिना नियमित प्रमुख के काम कर रही थी।

सीबीआई के अतिरिक्त निदेशक प्रवीण सिन्हा को शुक्ला का कार्यकाल पूरा होने के बाद एजेंसी का कार्यवाहक प्रमुख नियुक्त किया गया था। सिन्हा 1988 बैच के गुजरात कैडर के आईपीएस अधिकारी हैं। मंत्रालय के आदेश में कहा गया है कि जायसवाल को दो साल के लिये केन्द्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) का निदेशक नियुक्त किया गया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी नीत तीन सदस्यीय चयन समिति ने सोमवार को उनके नाम पर मुहर लगाई थी। भारत के प्रधान न्यायाधीश एन वी रमन तथा लोकसभा में नेता प्रतिपक्ष अधीर रंजन चौधरी इस समिति के सदस्य हैं। 

बैठक के दौरान चौधरी ने इस प्रतिष्ठित पद के लिये अधिकारियों के चयन की प्रक्रिया पर आपत्ति जतायी थी। उन्होंने कहा था, ‘‘जिस तरीके से चयन की प्रक्रिया अपनाई गई वह समिति के अधिदेश से मेल नहीं खाती है। मुझे 11 (मई) को 109 नाम दिए गए और आज एक बजे तक उनमें से 10 नाम चयनित किए गए तथा चार बजे तक छह नाम तय किए गए। कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग का यह लापरवाहीपूर्ण रवैया बहुत ही आपत्तिजनक है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।