PM मोदी को कौन दे सकता है कांटे की टक्कर ? इस नेता को जनता का मिला सबसे ज्यादा समर्थन

PM Modi
प्रतिरूप फोटो
सर्वे के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी को टक्कर देने वाले नेताओं में पहली पसंद के तौर पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 17 फीसदी लोगों ने चुना। जबकि 16 फीसदी लोगों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल विपक्ष की भूमिका निभा सकते हैं। वहीं 11 फीसदी लोगों के साथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तीसरे स्थान पर दिखाई दिए।

नयी दिल्ली। उत्तर प्रदेश, पंजाब समेत पांच राज्यों में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं। ऐसे में अगर आज मतदान हो तो देश का मूड क्या है ? प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कौन टक्कर दे सकता है ? इस तरह के सवाल के साथ इंडिया टुडे-सी वोटर का सर्वे सामने आया है। जिसमें मूड ऑफ द नेशन को समझा गया है। सी वोटर के सर्वे में विपक्ष के चेहरे को जानने की कोशिश की गई। जिसमें हैरान कर देने वाले आंकड़े सामने आए।

इसे भी पढ़ें: देश में आज हुए लोकसभा चुनाव तो एनडीए को मिलेंगी 296 सीटें, यूपी में 66 फ़ीसदी लोग योगी के कामकाज से संतुष्ट 

विपक्षी चेहरा कौन ?

सर्वे के मुताबिक, प्रधानमंत्री मोदी को टक्कर देने वाले नेताओं में पहली पसंद के तौर पर पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को 17 फीसदी लोगों ने चुना। जबकि 16 फीसदी लोगों का मानना है कि अरविंद केजरीवाल विपक्ष की भूमिका निभा सकते हैं। वहीं 11 फीसदी लोगों के साथ कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी तीसरे स्थान पर दिखाई दिए।

PM मोदी का उत्तराधिकारी कौन ?

इसके अलावा सर्वे में यह भी जानने की कोशिश की गई कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराधिकारी कौन होगा। इसके आंकड़े भी बेहद दिलचस्प रहे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बाद इस पद पर जनता ने मौजूदा गृह मंत्री अमित शाह को अपनी पहली पसंद बताया। अमित शाह को 24 फीसदी लोगों का साथ मिला। जबकि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ दूसरे स्थान पर रहे। उन्हें 23 फीसदी लोगों ने प्रधानमंत्री मोदी का उत्तराधिकारी माना। 

इसे भी पढ़ें: यूपी चुनाव को लेकर एनडीए में बनी सीट बंटवारे पर सहमति, अपना दल और निषाद पार्टी को मिलेंगी इतनी सीटें 

गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी राष्ट्रीय राजनीति में अपने कदम जमाने की कोशिशें कर रही हैं। इसके लिए उन्होंने कांग्रेस पार्टी द्वारा नजरअंदाज किए गए नेताओं को अपने पाले में मिलाने की कोशिश की। इतना ही नहीं वो इस बार गोवा के विधानसभा चुनाव में भी किस्मत आजमा रही हैं। जबकि उत्तर प्रदेश में उन्होंने समाजवादी पार्टी (सपा) प्रमुख अखिलेश यादव को अपना समर्थन देने की बात कही। उनकी पार्टी ने साफ कर दिया कि वह उत्तर प्रदेश का विधानसभा चुनाव नहीं लड़ेगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़