विधानसभा चुनावों से पहले कृषि कानूनों के विरोध से जुड़ा मुद्दा सुलझने के आसार बढ़े

Prabhasakshi NewsRoom
नीरज दुबे । Nov 12, 2021 12:01PM
अब सरकार तो एक ओर वार्ता की वकालत कर रही है और किसान संगठनों से बातचीत की बात कह रही है लेकिन भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक केंद्र द्वारा विवादित कृषि कानूनों को निरस्त नहीं किया जाता तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा।

नमस्कार। न्यूजरूम में आप सभी का स्वागत है। केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने कहा है कि सरकार तीन नए कृषि कानूनों पर विरोध कर रहे किसानों से बात करने के लिए तैयार है लेकिन किसान आंदोलन का समाधान उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनावों से संबंधित नहीं है। उन्होंने भरोसा जताया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) अपने सहयोगी दलों के साथ राज्य में फिर से सरकार बनाएगी। पीयूष गोयल ने कहा कि केंद्र सरकार के लिए दिल्ली की सीमाओं पर चल रहे किसान विरोध का समाधान जरूरी है। हम आपको बता दें कि पीयूष गोयल उस मंत्रिमंडलीय समूह का हिस्सा हैं जोकि किसान संगठनों के प्रतिनिधियों से बात कर रहा है।

टिकैत की बयानबाजी

अब सरकार तो एक ओर वार्ता की वकालत कर रही है और किसान संगठनों से बातचीत की बात कह रही है लेकिन भारतीय किसान यूनियन (भाकियू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा है कि जब तक केंद्र द्वारा विवादित कृषि कानूनों को निरस्त नहीं किया जाता तब तक किसानों का विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा। किसान नेता ने जोर देकर कहा कि केवल विवादास्पद कानूनों को निरस्त करने से ही विरोध का अंत सुनिश्चित होगा। टिकैत ने ट्वीट किया, “जब तक तीनों काले कानूनों की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गारंटी कानून नहीं बनता तब तक आन्दोलन देश भर में जारी रहेगा।” उन्होंने कहा, “बिल वापसी ही घर वापसी है।” भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता टिकैत ने कहा कि यह आंदोलन “जल, जंगल और जमीन” की सुरक्षा के लिये है।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi's NewsRoomI LAC के पार चीनी निर्माण को लेकर CDS और विदेश मंत्रालय के बयानों में दिखा विरोधाभास !

 अमेरिका में भी छठ पर्व की धूम

आइये अब आपको लिये चलते हैं अमेरिका। अमेरिका में बड़ी संख्या में भारतीय-अमेरिकियों ने नदी के तटों, तलाबों और अस्थायी जलाशयों पर एकत्रित होकर छठ पूजा की। कोविड-19 के कारण पिछले साल छठ पूजा के लिए कम संख्या में लोग एकत्रित हुए थे, लेकिन इस साल बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने यह त्योहार मनाया। इसके लिए कई लोगों ने कई मील का सफर भी तय किया। वाशिंगटन के वर्जीनिया उपनगर में, 400 से अधिक भारतीय-अमेरिकी लोगों ने बुधवार शाम और बृहस्पतिवार सुबह पोटोमैक नदी के तट पर सूर्यास्त तथा सूर्योदय के समय सूर्य की पूजा की। ‘खरना’ से सुबह के ‘अर्घ्य’ तक की पूरी पूजा को ज़ूम और फेसबुक पर उन लोगों के लिए ‘लाइव स्ट्रीम’ किया गया, जो वैश्विक महामारी के कारण यहां नहीं आ सके। ‘बिहार झारखंड एसोसिएशन ऑफ नॉर्थ अमेरिका’ (बीजेएएनए) ने न्यू जर्सी के थॉम्पसन पार्क में लगातार पांचवीं बार छठ पूजा समारोह का आयोजन किया। एरिज़ोना, अर्कांसस, पेनसिल्वेनिया, फ्लोरिडा, टेक्सास के अलावा, इस वर्ष कनेक्टिकट में भी इसे मनाया गया और बड़ी संख्या में भारतीय-अमेरिकियों वहां पहुंचे। अधिकांश समारोह स्थल पर समुदाय के सदस्यों ने खाना और प्रसाद भी स्वयं ही बनाया। यहां बाइटें लग जायेंगी।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़