• तेजस्वी का चिराग को ऑफर, लापता होने के आरोपों पर कहा - मैं नेता के साथ बेटा भी हूं

अंकित सिंह Jun 24, 2021 10:29

लोजपा में मची सियासी टूट को लेकर तेजस्वी ने अपनी बात रखी। तेजस्वी ने चिराग पासवान को ऑफर देते हुए कहा कि उन्हें तय करना है कि ‘आरएसएस के बंच ऑफ थॉट्स’ लिखने वाले गोलवलकर के अनुयायियों के साथ रहेंगे या संविधान निर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर के विचारों को मानने वालों के साथ रहेंगे।

अपने पिता लालू यादव के साथ वक्त बिताने के बाद तेजस्वी यादव बिहार लौट गए हैं। बिहार लौटने के साथ ही उन्होंने सरकार पर जमकर निशाना साधा। उन्होंने लोजपा में मची टूट पर भी अपनी राय रखी। साथ ही साथ बिहार से गायब होने के आरोपों पर भी बड़ा बयान दिया। कोरोना काल में तेजस्वी पर बिहार से गायब होने के आरोप लग रहे थे। इसी सवाल का जवाब देते हुए बिहार के नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कहा कि सत्तापक्ष को भी पता होना चाहिए कि नेता के साथ मैं एक बेटा भी हूं। आप सभी जानते हैं कि आदरणीय लालू जी की जिनकी तबीयत... अभी ध्यान रखने की जरूरत है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद के पटना आने को लेकर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि वह डॉक्टरों की निगरानी में हैं और मुझे लगता है कि कुछ दिनों के बाद उनका पटना आना संभव हो सकता है। चारा घोटाला मामले में जेल से रिहा होने के बाद से लालू प्रसाद दिल्ली में अपनी बड़ी बेटी मीसा भारती के आवास में रह रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: वैक्सीन न लगवाने वालों को बिहार विधानसभा में नहीं मिलेगी एंट्री, स्पीकर विजय सिन्हा ने की यह अपील

बिहार सरकार पर निशाना

बिहार सरकार पर हमला करते हुए तेजस्वी यादव ने कहा कि देश भर में मंहगाई अपनी चरम पर है। बिहार की बात की जाए तो 27 जिलों में पेट्रोल सेंचुरी मार चुकी है। प्रत्येक वस्तु के दाम बढ़े हैं।लोग रोजगार की तलाश में भटक रहे हैं। डिग्री हासिल कर भी उन्हें नौकरी नहीं मिल रही है। छोटे व्यापार एवं दुकान बंद हो चुके हैं और नीतीश जी की तो आदत है। शेष जो जीवन का बचा हुआ है उसके चक्कर में पूरे बिहार को बर्बाद करने पर तुले हुए हैं।’’ नीतीश कुमार पर आरोप लगाते हुए तेजस्वी ने कहा कि वह जोड़-तोड़ से मुख्यमंत्री बने हुए हैं और यह हर कोई जानता है।

इसे भी पढ़ें: हनुमान को नहीं मिला भगवान राम का साथ, चिराग बोले- बचाना चाहिए था

चिराग को ऑफर

लोजपा में मची सियासी टूट को लेकर तेजस्वी ने अपनी बात रखी। तेजस्वी ने चिराग पासवान  को ऑफर देते हुए कहा कि उन्हें तय करना है कि ‘आरएसएस के बंच ऑफ थॉट्स’ लिखने वाले गोलवलकर के अनुयायियों के साथ रहेंगे या संविधान निर्माता बाबा साहेब अम्बेडकर के विचारों को मानने वालों के साथ रहेंगे। लोजपा में टूट को लेकर जदयू पर लग रहे आरोप का जिक्र करते हुए कहा कि आप सभी जान रहे हैं कि इसमें किसका गेम था। मास्टर प्लान किसने बनाया था। जो लोग जोड़-तोड़ की राजनीति करते हैं, अगर वे इतना ही ध्यान बिहार और यहां के लोगों पर देते तो शायद यह नौबत नहीं आती।’’ बिहार के मुख्यमंत्री और जदयू नेता नीतीश कुमार ने लोजपा में टूट को लेकर किसी भी भूमिका से इनकार किया है। इस संबंध में तेजस्वी ने कहा, ‘‘लोजपा को 2005 और 2010 में भी उन्होंने तोड़ने की कोशिश की थी और लोजपा का एक भी सांसद और विधायक नहीं होने के बावजूद लालू जी ने रामविलास पासवान जी (लोजपा संस्थापक) को राजद कोटे से राज्यसभा का सदस्य बनाया था।