संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की फिराक में आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस, खुफिया एजेंसी ने जारी किया अलर्ट

संसद भवन पर खालिस्तानी झंडा फहराने की फिराक में आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस, खुफिया एजेंसी ने जारी किया अलर्ट

एसएफजे के आतंकी जीएस पन्नू ने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो जारी किया है। जिसमें कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों से शीतकालीन सत्र के दौरान संसद का घेराव करने की अपील की और झंडा फहराने को कहा। जिसके बाद खुफिया एजेंसी ने अलर्ट जारी किया।

नयी दिल्ली। प्रतिबंध आतंकी संगठन सिख फॉर जस्टिस (एसएफजे) संसद भवन में खालिस्तानी झंडा फहराने की योजना तैयार कर रहा है। इसको लेकर खुफिया विभाग ने अलर्ट जारी किया है। आपको बता दें कि 29 नवंबर से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने वाला है। इससे पहले खुफिया एजेंसियों ने एक सूचना के आधार पर अलर्ट जारी किया है।  

इसे भी पढ़ें: 29 नवंबर को होने वाली किसानों की ट्रैक्टर रैली स्थगित, 4 दिसंबर को होगी SKM की अगली बैठक 

खुफिया एजेंसी ने जारी किया अलर्ट

हिन्दी समाचार चैनल 'आज तक' की रिपोर्ट के मुताबिक, एसएफजे के आतंकी जीएस पन्नू ने यूट्यूब चैनल पर एक वीडियो जारी किया है। जिसमें कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों से शीतकालीन सत्र के दौरान संसद का घेराव करने की अपील की और झंडा फहराने को कहा। इतना ही नहीं आतंकी जीएस पन्नू ने खालिस्तानी झंडा फहराने वाले के लिए इनाम की भी घोषणा की है। उसने कहा कि संसद भवन पर जो भी खालिस्तानी झंडा फहराएगा उसे सवा लाख अमेरिकी डॉलर इनाम के तौर पर दिए जाएंगे। 

इसे भी पढ़ें: क्या होगी किसान आंदोलन की रूपरेखा ? टिकैत बोले- SKM की बैठक में होगा फैसला, सरकार के पास संसद सत्र तक का समय 

संसद भवन के पास बढ़ाई गई सुरक्षा 

आतंकी जीएस पन्नू का वीडियो सामने आने के बाद खुफिया विभाग ने अलर्ट जारी किया। जिसके बाद संसद भवन के आस-पास के इलाकों में सुरक्षा बढ़ा दी गई है। गौरतलब है कि किसान संगठन कृषि कानूनों के विरोध में एक साल से आंदोलन कर रहे हैं। हालांकि सरकार ने कानूनों को वापस लेने का ऐलान किया है। हालांकि किसानों ने सरकार के समक्ष एमएसपी गारंटी कानून समेत अपनी 6 मांगें रखी हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।