जिहादियों के लिए ऐप डिजाइन कर रहा था गोरखपुर मंदिर का हमलावर, यह था बड़ा मकसद

murtaza abbasi
अंकित सिंह । Apr 08, 2022 12:35PM
एटीएस की पूछताछ में बड़ा खुलासा यह हुआ है कि आरोपी मुर्तजा अब्बासी जिहादियों को जोड़ने के लिए एक ऐप पर काम कर रहा था। इस ऐप का नाम उसने जरिमा दिया था। यह भी जानना जरूरी है कि गरिमा का अरबी अनुवाद जुल्म होता है।

हाल में ही गोरखनाथ मंदिर की सुरक्षा में खड़े जवानों पर हमले की कोशिश की गई थी। दावा किया जा रहा है कि हमलावर गोरखनाथ मंदिर में घुसने की कोशिश में था। हमलावर का नाम मुर्तजा अब्बासी था। हमले के बाद मुर्तजा अब्बासी को गिरफ्तार कर लिया गया। फिलहाल कोर्ट ने उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया है। इस दौरान उत्तर प्रदेश एटीएस लगातार मुर्तजा से पूछताछ कर रही है और इसमें बड़े खुलासे भी हो रहे हैं। एटीएस की पूछताछ में बड़ा खुलासा यह हुआ है कि आरोपी मुर्तजा अब्बासी जिहादियों को जोड़ने के लिए एक ऐप पर काम कर रहा था। इस ऐप का नाम उसने जरिमा दिया था। यह भी जानना जरूरी है कि गरिमा का अरबी अनुवाद जुल्म होता है।

इसे भी पढ़ें: गोरखपुर केस में आरोपी मुर्तजा का बड़ा कबूलनामा, CAA-NRC के गुस्से में किया मंदिर में हमला

दावा किया जा रहा है कि इस ऐप के जरिए वह पियर टू पियर संदेशों का आदान-प्रदान करता था। इस ऐप को डिजाइन करने का उसका मकसद सिर्फ और सिर्फ उन लोगों को जोड़ना था जो जिहाद के रास्ते पर जाना चाहते थे। इसके अलावा वे उन लोगों को भी इससे जोड़ने की कोशिश कर रहा था जिन्हें लगता था कि मुसलमानों पर जुल्म हो रहा है। दावा तो यह भी किया जा रहा है कि मुर्तजा किसी बड़े हमले की तैयारी में था। मुर्तजा बातचीत के लिए कोड का इस्तेमाल करता था। यही कारण है कि एटीएस उससे लगातार पूछताछ कर रही है। माना जा रहा है कि वह आईएसआईएस से भी प्रभावित है। यही कारण है कि इस संभावना से भी इनकार नहीं किया जा सकता कि उसके पास कोई बड़ी जानकारी हो। 

इसे भी पढ़ें: आतंकियों के निशाने पर Gorakhnath Mandir! हमले की जांच में जुटी Police का बड़ा दावा

मुर्तजा अब्बासी कौन है

अब्बासी ने 2015 में आईआईटी मुंबई से केमिकल इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की है। उसने कई बड़ी कंपनियों में काम किया है जिसमें रिलायंस इंडस्ट्रीज और एस्सार पैट्रोल केमिकल्स शामिल है। उसके पिता मोहम्मद मुनीर कई फाइनेंस कंपनियों के एडवाइजर रहे हैं। आपको बता दें कि केमिकल इंजीनियरिंग में पढ़ाई करने के बाद मुर्तजा ने ऐप डेवलपिंग का भी कोर्स किया था। घरवालों का दावा है कि 2017 से उसके मानसिक हालात ठीक नहीं है। यूपी एटीएस के मुताबिक आरोपी कुछ दिन पहले नेपाल गया था और मंदिर में जिस धारदार हथियार से इसने हमले की कोशिश की उसे उसने महाराजगंज से खरीदा था। मुर्तजा अब्बासी गोरखपुर का ही रहने वाला है। हालांकि आतंकी साजिश के शक में पुलिस लगातार इसकी जांच कर रही है और आसपास के इलाकों में सर्च ऑपरेशन भी चला रही है।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़