जी-23 के नेताओं की पूरी हुई मांग, कमलनाथ बोले- 3 महीनों में होंगे अध्यक्ष पद के चुनाव

जी-23 के नेताओं की पूरी हुई मांग, कमलनाथ बोले- 3 महीनों में होंगे अध्यक्ष पद के चुनाव
प्रतिरूप फोटो

पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जी23 के लोग मेरे बहुत करीबी हैं, वे सालों से मेरे मित्र और सहयोगी रहे हैं। उनकी ऐसी कोई भी मांग नहीं थी, जो पूरी नहीं हो सकती थी। उनकी मांगों को स्वीकार कर लिया गया हैं। जी-23 के लोग चुनाव चाहते थे, 3 महीने में चुनाव होंगे, सबकुछ आप लोगों के सामने होगा।

नयी दिल्ली। पांच राज्यों में संपन्न हुए विधानसभा चुनाव के बाद से ग्रैंड ओल्ड पार्टी कांग्रेस के भीतर घमासान मचा हुआ है और जी-23 के नेता भी काफी चिंतित हैं। इसी बीच मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का बयान सामने आया है। उन्होंने कहा कि जी-23 के साथियों की मांगों को मान लिया गया है और 3 महीने में चुनाव होंगे। 

इसे भी पढ़ें: MP में बढ़ती महंगाई को लेकर कांग्रेस का देशव्यापी प्रदर्शन, बीजेपी ने कसा तंज 

3 महीने में होंगे संगठनात्मक चुनाव

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा कि जी23 के लोग मेरे बहुत करीबी हैं, वे सालों से मेरे मित्र और सहयोगी रहे हैं। उनकी ऐसी कोई भी मांग नहीं थी, जो पूरी नहीं हो सकती थी। उनकी मांगों को स्वीकार कर लिया गया हैं। जी-23 के लोग चुनाव चाहते थे और 3 महीने में चुनाव होंगे, सबकुछ आप लोगों के सामने होगा।

कौन हैं जी-23 के नेता?

जी-23 कोई अलग समूह नहीं है बल्कि यह लोग कांग्रेस पार्टी के ही सदस्य हैं। दरअसल, गुलाम नबी आजाद समेत कांग्रेस के 23 नेताओं ने नेतृत्व के प्रति असंतोष जताते हुए पार्टी की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी को पत्र लिखा था। जिसके बाद इन्हें जी-23 के नाम से पुकारा जाने लगा। गुलाम नबी आजाद जी-23 के अगुआ बनकर उभरे थे।

इसे भी पढ़ें: Prabhasakshi Newsroom। क्या खुद को बदलना नहीं चाहती है कांग्रेस ? महंगाई पर सरकार को घेरने में जुटी 

जी-23 नेताओं में गुलाम नबी आजाद के अलावा कपिल सिब्बल, शशि थरूर, मनीष तिवारी, आनंद शर्मा, पीजे कुरियन, रेणुका चौधरी, मिलिंद देवड़ा, मुकुल वासनिक, जितिन प्रसाद, भूपेंद्र सिंह हुड्डा और राजेंद्र कौर भट्टल शामिल हैं। हालांकि जितिन प्रसाद ने कांग्रेस को अलविदा कहते हुए भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली थी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...