संस्कृत भारती हिमाचल प्रदेश के द्वारा आयोजित प्रांत सम्मेलन 2022 का समापन

संस्कृत भारती हिमाचल प्रदेश के द्वारा आयोजित प्रांत सम्मेलन 2022 का समापन

कार्यक्रम में संस्कृत भारती हिमाचल प्रदेश के प्रांत अध्यक्ष प्रोफेसर लक्ष्मी निवास पांडे ने अध्यक्षता की। समापन समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में संस्कृत भारती के अखिल भारत संगठन मंत्री जयप्रकाश गौतम उपस्थित थे। सत्यदेव ने सम्मेलन का उद्देश्य एवं सामान्य वृत्त प्रस्तुत किया। तदोपरान्त सम्मेलन के मुख्य वक्ता ने संस्कृत भारती के कार्य स्वरूप एवं कार्य पद्धति के विषय में अपने विचार प्रस्तुत किए।

 ज्वालामुखी ) ।  संस्कृत भारती हिमाचल प्रदेश के द्वारा आयोजित प्रांत सम्मेलन 2022 का समापन समारोह अग्रवाल धर्मशाला ज्वालामुखी में आज संपन्न हुआ। प्रांत सम्मेलन में मुख्य अतिथि के रुप में हिमाचल प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री  जयराम ठाकुर आभासी ऑनलाइन माध्यम से उपस्थित रहे। विशिष्ट अतिथि के रूप में हिमाचल प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री  गोविंद ठाकुर जी, सारस्वत अतिथि के रुप में डॉक्टर लोकेंद्र शर्मा उपस्थित रहे।

 कार्यक्रम में संस्कृत भारती हिमाचल प्रदेश के प्रांत अध्यक्ष  प्रोफेसर लक्ष्मी निवास पांडे  ने अध्यक्षता की। समापन समारोह में मुख्य वक्ता के रूप में संस्कृत भारती के अखिल भारत संगठन मंत्री  जयप्रकाश गौतम  उपस्थित थे। सत्यदेव ने सम्मेलन का उद्देश्य एवं सामान्य वृत्त प्रस्तुत किया। तदोपरान्त सम्मेलन के मुख्य वक्ता ने संस्कृत भारती के कार्य स्वरूप एवं कार्य पद्धति के विषय में अपने विचार प्रस्तुत किए।

इसे भी पढ़ें: संस्कृत को लोकभाषा बनाने की आवश्यकताः राज्यपाल विश्वनाथ आर्लेकर

राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2021 की संक्षिप्त रूप से विवेचना की और संस्कृत के विकास हेतु कार्य योजना पर अपने अमूल्य विचार साझा किए। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रुप में उपस्थित रहे हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर जी ने अपने उद्बोधन में कहा कि हमने संस्कृत को हिमाचल प्रदेश की द्वितीय राज्य भाषा घोषित किया है और शीघ्र ही इस विषय पर कार्यान्वयन करने के लिए हम तत्पर रहेंगे। संस्कृत भाषा को हमारी सरकार ने तीसरी कक्षा से लागू किया है जिसका अभी पाठ्यक्रम भी निर्धारित हो चुका है और अगले सत्र से उसका संचालन भी किया जाएगा। अन्य जो मांगे संस्कृत भारती की विशेष थी उन मांगों के लिए बजट सत्र में विशेष प्रावधान किया जाएगा। ऐसा मुख्यमंत्री हिमाचल प्रदेश सरकार ने आश्वासन दिया है।

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने संस्कृत भारती के क्षेत्रीय सम्मेलन को वर्चुअली सम्बोधित किया

कार्यक्रम में विशिष्ट अतिथि के रुप में उपस्थित हिमाचल प्रदेश सरकार में शिक्षा मंत्री के पद पर आसीन गोविंद सिंह ठाकुर जी ने अपने वक्तव्य में कहा कि हमारी सरकार संस्कृत के प्रति वचनबद्ध है संस्कृत भारती के प्रति वचनबद्ध हैं। इसके क्रियान्वयन के लिए जो जो उचित हो सकता है उसके लिए हम शीघ्र अति शीघ्र उचित प्रयास करेंगे। कार्यक्रम के अंत में संस्कृत भारती के प्रांत अध्यक्ष महोदय प्रोफेसर लक्ष्मी निवास पांडे जी ने और अपने उद्बोधन से संस्कृत भारती के कार्यकर्ताओं का मार्गदर्शन किया और आगे जाकर के अपने कार्य क्षेत्र में संस्कृत भारती के प्रचार को और ज्यादा संस्कृत भारती के कार्य को करने के लिए और ज्यादा प्रेरित किया। कार्यक्रम के अंत में डॉ गिरिराज गौतम ने सभी का धन्यवाद ज्ञापन करके शांति मंत्र से कार्यक्रम का समापन हुआ।

इसे भी पढ़ें: सरकार यूक्रेन में पैदा हालतों से चिंतित है --जय राम ठाकुर

26 फरवरी की मध्य रात्रि को मिली इनपुट के आधार पर आबकारी विभाग ने धर्मशाला स्थित शराब ठेकों पर दबिश दी। आबकारी विभाग को सूचना मिली थी कि शराब ठेकों पर निर्धारित समय रात्रि 11.30 बजे के बाद भी शराब को बेचा जा रहा है। जिसके बाद आबकारी विभाग के अधिकारियों ने त्वरित कार्यवाही करते हुए धर्मशाला स्थित सभी शराब ठेके चैक किए, जिसमें से क्रिकेट स्टेडियम के पास स्थित शराब ठेके पर सेलसमैन शराब बेचते हुए पाया गया। इस संदर्भ में कार्रवाई करते हुए अधिकारियों ने आबकारी अधिनियम के अंतर्गत इस शराब ठेके का केस बनाया है, जिसे उच्च अधिकारियों को आगामी कार्यवाही के लिए भेज दिया जाएगा। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।