चार दिन से चल रहे विश्व शांति महायज्ञ का हुआ समापन, हजारों लोग हुए शामिल

चार दिन से चल रहे विश्व शांति महायज्ञ का हुआ समापन, हजारों लोग हुए शामिल
प्रतिरूप फोटो
Prabhasakshi

महायज्ञ क़े प्रथम दिन सिद्धि -बुद्धि प्रदाता श्री गणेश कल्याण-पुजन, द्धितीय दिवस श्री शिवगामी नटराजन कल्याण-पुजन, तृतीय दिवस श्री वल्ली देवसेना सुब्रमण्येश्वरा स्वामी (कार्तिकेय) कल्याण-पुजा और चतुर्थ दिवस अयोध्यापति श्री सीता राम कल्याण-पुजन उत्सव का आयोजन किया गया। इसके साथ प्रत्येक दिन श्री तिरुपति बालाजी के भव्य आरती का आयोजन भी धूमधाम से किया गया।

नई दिल्ली। आजादी के अमृत महोत्सव के तत्वाधान में विश्व शांति और सद्भावना के लिए नमो सद्भावना समिति द्वारा दिल्ली के 'आद्या कात्यायनी शक्तिपीठ मंदिर', छतरपुर, में विश्व शांति महायज्ञ का आयोजन सुबह शोभा यात्रा एवं शाम को कार्यकर्ताओं के सम्मान के साथ संपन्न हुआ। यह आयोजन 21 अप्रैल से 24 अप्रैल तक चला, जिसमें हजारों श्रद्धालुओं ने भाग लिया। महायज्ञ क़े प्रथम दिन सिद्धि -बुद्धि प्रदाता श्री गणेश कल्याण-पुजन, द्धितीय दिवस श्री शिवगामी नटराजन कल्याण-पुजन, तृतीय दिवस श्री वल्ली देवसेना सुब्रमण्येश्वरा स्वामी (कार्तिकेय) कल्याण-पुजा और चतुर्थ दिवस अयोध्यापति श्री सीता राम कल्याण-पुजन उत्सव का आयोजन किया गया। 

इसे भी पढ़ें: मन की बात कार्यक्रम में बोले PM मोदी, देश के हर जिले में बनाए जाएंगे 75 अमृत सरोवर, पढ़िए संबोधन की बड़ी बातें 

इसके साथ प्रत्येक दिन श्री तिरुपति बालाजी के भव्य आरती का आयोजन भी धूमधाम से किया गया। शाम सनातन कवियों के नाम रहा जहां, शम्भू शिखरप्रेम किशोर ‘पटाखा’, पद्मिनी शर्मा, डॉ चारू, शिखा, रविकांत,अर्जुन और अन्य कवियों ने अपनी प्रस्तुति से दर्शकों पर अमिट छाप छोड़ी। अनेक सांस्कृतिक कार्यक्रमों के साथ ही मानस दास जी महाराज ‘अयोध्या’ द्वारा भजन संध्या हुआ। सनातन धर्म से सबंधित ज्ञान की बातों को डिस्प्ले के माध्यम से दिखाया जा रहा था, जिससे नई पीढ़ी अपने धर्म और उनसे जुड़ी बातों को जान सकें।

नमो सद्भावना समिति द्वारा आयोजित होने वाले विश्वशांति महायज्ञ-2022 के सलाहकार श्रीनिवास गजल ने इस बारे में बताया कि “ भविष्य में ऐसे आयोजन और बड़े स्तर किये जायेंगे एवं सनातन धर्म को आने वाली पीढ़ियों को बताया जायेगा।“ राष्ट्र एवं विश्व कल्याण के लिए होने वाले इस महायज्ञ में लगभग 500 से भी अधिक वैदिक पुरोहित,अगम पंडित एवं विभिन्न मठाधीशपति संपूर्ण भारत से आये एवं इस महायज्ञ में मंत्रोच्चार के साथ आहुति दिए। हजारों की संख्या में लोग इस महायज्ञ में भाग लिए एवं विश्व के कल्याण हेतु प्रार्थना किये। 

इसे भी पढ़ें: आजादी का अमृत महोत्सव: बंडारू दत्तात्रेय ने दिल्ली में आयोजित विश्व शांति महायज्ञ का किया शुभारंभ 

नमो सद्भावना समिति के संचालक प्रवेश पाण्डेय ने कहा की,” नमो सद्भावना समिति ऐसे आयोजन देश के प्रत्येक क्षेत्र में करेगी और अगला पड़ाव अयोध्या धाम है जहाँ विश्व शांति महायज्ञ करने का प्रयास है।“ समिति के मुख्य कार्यकारी मुरली कृष्णा और सदस्य कोनेरू रमादेवि श्रीधर, श्रीनिवास गजल, प्रवेश पांडेय, विभाकर मिश्र, संदीप कालिया,राजेश सिंह एवं अन्य कार्यकर्त्तागण यज्ञ आयोजन को सफल बनाने हेतु लगातार व्यवस्था पर नज़र रहे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...