अग्निमित्रा पॉल के दावे पर TMC MLA बोले, दिसंबर खत्म होने से पहले बीजेपी का सफाया हो जाएगा

Madan mitra
ANI
अंकित सिंह । Nov 22, 2022 4:42PM
मदन मित्रा ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस यह कहना चाह रही थी कि भाजपा के 30 विधायक तृणमूल कांग्रेस में शामिल होना चाहते हैं। लेकिन वह सीधे तौर पर नहीं कह सकीं और कहा कि टीएमसी के विधायक भाजपा में आ रहे हैं।

पश्चिम बंगाल में भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के बीच लगातार वार-पलटवार का दौर चल रहा है। आज भाजपा की विधायक अग्निमित्रा पॉल ने दावा किया था कि दिसंबर में पश्चिम बंगाल में बड़ा खेला होने वाला है। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया था कि दिसंबर में 30 से ज्यादा तृणमूल कांग्रेस के विधायक भाजपा में शामिल हो सकते हैं। अब इसी को लेकर तृणमूल कांग्रेस का भी बयान सामने आ गया है। तृणमूल कांग्रेस के विधायक मदन मित्रा ने साफ तौर पर कहा है कि अग्निमित्र पौल जो कहना चाह रही थीं, वह सही से कह नहीं पाईं। इसके साथ ही उन्होंने दावा किया कि दिसंबर खत्म होने से पहले ही भाजपा का सफाया हो जाएगा। इतना ही नहीं, उन्होंने साफ कह दिया कि आज अगर नरेंद्र मोदी के खिलाफ देश में कोई चेहरा है तो वह ममता बनर्जी हैं।

इसे भी पढ़ें: 'दिसंबर में बंगाल में होगा बड़ा खेला', भाजपा विधायक का दावा- हमारे संपर्क में TMC के 30 विधायक

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के अनुसार मदन मित्रा ने कहा कि तृणमूल कांग्रेस यह कहना चाह रही थी कि भाजपा के 30 विधायक तृणमूल कांग्रेस में शामिल होना चाहते हैं। लेकिन वह सीधे तौर पर नहीं कह सकीं और कहा कि टीएमसी के विधायक भाजपा में आ रहे हैं। इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि नरेंद्र मोदी के खिलाफ देश में कोई चेहरा है तो हम ममता बनर्जी का है। हम दिसंबर में पूरे मजबूत रहेंगे। इसके साथ ही उन्होंने यह भी दावा कर दिया कि दिसंबर खत्म होने से पहले भाजपा का सफाया हो जाएगा। वहीं, अग्निमित्रा पॉल ने कहा था कि दिसंबर में यहां 'खेला' होगा। 30 से अधिक टीएमसी विधायक हमारी पार्टी के संपर्क में हैं। वे जानते हैं कि दिसंबर के बाद उनकी सरकार लंबे समय तक नहीं चलेगी। उनका अस्तित्व दांव पर है। 

इसे भी पढ़ें: केंद्र व निर्वाचन आयोग ‘बांग्लादेशी प्रवासियों’ पर टीएमसी विधायक के बयान का संज्ञान लें : भाजपा

इसके साथ ही अग्निमित्रा पॉल ने यह भी कहा कि मैं एक साधारण नेता हूं। सरकार कर्मचारियों को डीए नहीं दे पा रही है। भुगतान करने में असमर्थ है। लोगों को नौकरी नहीं मिल रही है। यह मेरा शीर्ष नेतृत्व और बड़े नेता लगातार अपने अनुभव के आधार पर कह रहे हैं। यही कारण है कि दिसंबर में बहुत कुछ हो सकता है। इससे पहले शुभेंदु अधिकारी ने साफ तौर पर कहा था कि कुछ महीने रूकिए। यह सरकार पश्चिम बंगाल में सत्ता में नहीं रहेगी। मेरी बातों को पर गांठ बांध लीजिए। दूसरी ओर ममता बनर्जी जबरदस्त तरीके से भाजपा पर हमलावर है। ममता बनर्जी दावा कर रही हैं कि पश्चिम बंगाल को अस्थिर करने की कोशिश की जा रही है।

अन्य न्यूज़