टीएमसी ने बीरभूम हिंसा जैसी उत्तर प्रदेश की घटनाओं पर प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 24, 2022   20:46
टीएमसी ने बीरभूम हिंसा जैसी उत्तर प्रदेश की घटनाओं पर प्रधानमंत्री मोदी की चुप्पी पर सवाल उठाया

तृणमूल कांग्रेस ने बीरभूम हिंसा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी का बृहस्पतिवार को स्वागत किया और कहा कि इसने पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की भारतीय जनता पार्टी की मांग को बेअसर कर दिया। मोदी ने बुधवार को, पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हुई हिंसा को ‘‘जघन्य पाप’’ करार देते हुएइस पर दुख प्रकट किया था।

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस ने बीरभूम हिंसा पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी का बृहस्पतिवार को स्वागत किया और कहा कि इसने पश्चिम बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाने की भारतीय जनता पार्टी की मांग को बेअसर कर दिया। मोदी ने बुधवार को, पश्चिम बंगाल के बीरभूम में हुई हिंसा को ‘‘जघन्य पाप’’ करार देते हुएइस पर दुख प्रकट किया था। उन्होंने उम्मीद जताई थी कि राज्य सरकार दोषियों को जरूर सजा दिलाएगी। प्रधानमंत्री ने दोषियों को न्याय के दायरे में लाने के लिए बंगाल को हर मदद देने का वादा भी किया है। तृणमूल कांग्रेस प्रदेश प्रवक्ता कुणाल घोष ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की टिप्पणी साबित करती है कि उनका भी मानना है कि यह राज्य सरकार है, जिसे विषय की जांच करनी चाहिए।

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी पंडित डायसपोरा ने RSS के गुमनाम मदद का किया उल्लेख, कहा- संघ की सहायता से जिंदा हैं कई कश्मीरी हिंदू

राष्ट्रपति शासन लगाने की भाजपा की मांग अब कहीं से भी असरदार नहीं रह जाती है।’’ हालांकि, घोष ने हैरानगी जताते हुए सवाल किया, ‘‘क्यों प्रधानमंत्री उत्तर प्रदेश में इसी तरह की घटनाओं पर चुप्पी साध लेते हैं।’’ टीएमसी नेता ने यहां संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘बीरभूम में जो कुछ हुआ वह निंदनीय है। कोई भी व्यक्ति ऐसी हिंसा का समर्थन नहीं कर सकता। प्रधानमंत्री ने भी इसकी निंदा की। लेकिन हम इस बात को लेकर हैरान हैं कि भाजपा शासित राज्यों में नरसंहार होने पर वह (मोदी) चुप्पी क्यों साध लेते हैं। क्या उन्होंने उत्तर प्रदेश के हाथरस और उन्नाव में हुई इस तरह की घटनाओं की कभी निंदा की?’’

इसे भी पढ़ें: बीजेपी को विवेक अग्निहोत्री से कश्मीर फाइल्स को यूट्यूब पर अपलोड करने के लिए कहना चाहिए: अरविंद केजरीवाल

उनकी बातों से सहमति जताते हुए राज्य में मंत्री चंद्रिमा भट्टाचार्य ने कहा कि बंगाल को बदनाम करने के लिए एक अभियान चलाया जा रहा है। वहीं, बंगाल भाजपा प्रवक्ता शमिक भट्टाचार्य ने कहा, ‘‘बंगाल में कानून व्यवस्था लचर हो गई है। राज्य सरकार दोषियों को बचाने की कोशिश कर रही है। ’’ उल्लेखनीय है कि टीएमसी के एक पंचायत अधिकारी की हत्याके बाद मंगलवार तड़के बीरभूम जिले के बोगतुई गांव में आठ लोगों की जल कर मौत हो गई थी।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...