मथुरा रेलवे स्टेशन के बाहर बनाया जा सकता है पर्यटक सुविधा केंद्र, जानिए कौन वहन करेगा खर्च

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जुलाई 27, 2020   11:41
मथुरा रेलवे स्टेशन के बाहर बनाया जा सकता है पर्यटक सुविधा केंद्र, जानिए कौन वहन करेगा खर्च

हेमामालिनी ने बताया कि इस केंद्र में सुलभ शौचालय, सहायता एवं जानकारी मुहैया कराने के लिए एक काउंटर और ठहरने के लिए कम दाम पर कमरों समेत कई सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने का प्रस्ताव रखा गया है।

मथुरा। मथुरा जंक्शन रेलवे स्टेशन पर एक पर्यटक सुविधा केंद्र बनाए जाने की उम्मीद है और उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद इसका खर्च वहन करेगा। भाजपा सांसद हेमामालिनी ने रविवार को यह जानकारी दी। मथुरा से लोकसभा सांसद हेमामालिनी ने वीडियो लिंक के जरिए संवाददाताओं से कहा, ‘‘मथुरा जंक्शन के द्वार संख्या दो के बाहर पर्यटक सुविधा केंद्र रेलवे स्टेशन में यात्रियों को मुहैया कराई जाने वाली सुविधाओं में बढ़ोतरी करेगा।’’ हेमामालिनी ने बताया कि इस केंद्र में सुलभ शौचालय, सहायता एवं जानकारी मुहैया कराने के लिए एक काउंटर और ठहरने के लिए कम दाम पर कमरों समेत कई सुविधाएं उपलब्ध कराए जाने का प्रस्ताव रखा गया है। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के निर्माण के लिए सभी समुदायों से दानराशि स्वीकार की जाएगी : ट्रस्ट सदस्य 

उन्होंने बताया कि उत्तर प्रदेश ब्रज तीर्थ विकास परिषद उपाध्यक्ष शैलजा कांत मिश्रा प्रस्तावित केंद्र की लागत वहन करने के लिए सहमत हो गए हैं। उन्होंने बताया कि रेलवे मंडल की मंजूरी के बाद इस प्रस्ताव पर काम शुरू हो जाएगा। 71 वर्षीय सांसद ने कहा कि यदि रेलवे भूमि उपलब्ध कराता है तो निर्माण के बाद रेल प्राधिकारियों को यह केंद्र सौंप दिया जाएगा। उन्होंने मथुरा को मुख्य पर्यटन स्थल बताते हुए कहा, ‘‘यदि हम अंतरराष्ट्रीय पर्यटकों को आकर्षित कर सकते हैं, तो इससे यहां रोजगार के अवसर भी पैदा होंगे।’’ इसके अलावा उत्तर मध्य रेलवे प्राधिकारियों को प्लेटफार्म संख्या सात पर ‘ब्रज वाटिका’ की मरम्मत का प्रस्ताव भी भेजा गया है। सांसद के सुझाव पर उत्तर मध्य रेलवे ने द्वार संख्या एक से तीन पर पेयजल के लिए आरओ मुहैया कराने पर सैद्धांतिक सहमति जताई है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।