राजमार्ग पर यातायात प्रतिबंध से केरल- कर्नाटक के लोगों को हो रही है परेशानी : राहुल गांधी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 29, 2019   17:05
राजमार्ग पर यातायात प्रतिबंध से केरल- कर्नाटक के लोगों को हो रही है परेशानी : राहुल गांधी

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया, ‘‘मैं एनएच-766 पर लगे नौ घंटे के यातायात प्रतिबंध के खिलाफ 25 सितम्बर से अनश्चितकालीन धरने पर बैठे युवकों के साथ एकजुटता से खड़ा हूं। इससे केरल और कर्नाटक के लाखों लोग बहुत परेशान हो रहे हैं।’’

नयी दिल्ली। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने रविवार को कहा कि बांदीपुर रिजर्व से गुजर रहे राजमार्ग पर नौ घंटे के यातायात प्रतिबंध से केरल और कर्नाटक के लोगों को काफी परेशानी हो रही है। गांधी ने केन्द्र और राज्य सरकार से कहा कि पर्यावरण की रक्षा करते हुए स्थानीय समुदाय के हितों का भी ध्यान रखें। टाइगर रिजर्व से गुजर रहे मार्ग पर रात नौ बजे से शाम छह बजे के बीच तक यातायात प्रतिबंध लगाए गए हैं। रिजर्व के आसपास प्रतिबंध का उद्देश्य वन्यजीवों को होने वाली परेशानियों को कम करना है। केरल के वायनाड से सांसद राहुल ने प्रतिबंध के खिलाफ 25 सितम्बर से अनश्चितकालीन धरने पर बैठे युवकों के साथ एकजुटता व्यक्त की है।

इसे भी पढ़ें: ममता और राहुल पर बरसे जेपी नड्डा, कहा- बंगाल में खत्म हो चुका है TMC का समय

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने ट्वीट किया, ‘‘मैं एनएच-766 पर लगे नौ घंटे के यातायात प्रतिबंध के खिलाफ 25 सितम्बर से अनश्चितकालीन धरने पर बैठे युवकों के साथ एकजुटता से खड़ा हूं। इससे केरल और कर्नाटक के लाखों लोग बहुत परेशान हो रहे हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘मैं केन्द्र और राज्य सरकारों से अपील करता हूं कि पर्यावरण की रक्षा करने की हमारी साझा जिम्मेदारी को निभाते हुए स्थानीय समुदाय के हितों का भी ध्यान रखें।’’

केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान से होकर गुजरने वाले मार्ग पर ‘एलिवेटेड’ राजमार्ग बनाए जाने का समर्थन किया था। यह मार्ग केरल के वायनाड को कर्नाटक के मैसूर से जोड़ता है। एलिवेटेड राजमार्ग को सामान्य सतह से थोड़ा ऊंचाई पर बनाया जाता है। इस प्रतिबंध से वायनाड, कोझिकोड और मलप्पुरम जिले प्रभावित हो रहे हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...