त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने दिया इस्तीफा, शुक्रवार को अमित शाह से की थी मुलाकात

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने दिया इस्तीफा, शुक्रवार को अमित शाह से की थी मुलाकात
ANI

बिप्लब देव को अपनी पार्टी के कुछ नेताओं की ओर से आलोचना का सामना करना पड़ रहा था। पार्टी में बिप्लब देव को लेकर एकजुटता दिखाई नहीं दे रही थी। बिप्लब देव ने कहा कि पार्टी चाहती है कि त्रिपुरा में भाजपा लंबे समय तक शासन में रहे।

त्रिपुरा से बहुत बड़ी खबर निकल कर सामने आ रही है। त्रिपुरा में मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने इस्तीफा दे दिया है। बिप्लब कुमार देव ने राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य को अपना इस्तीफा सौंपा। आपको बता दें कि भाजपा ने बिप्लब कुमार देव को 2018 में मिली जीत के बाद मुख्यमंत्री बनाया था। हालांकि बिप्लब देव लगातार विपक्ष के साथ-साथ अपनों के निशाने पर रहते हैं। इस्तीफा के बाद बिप्लब देव ने कहा कि पार्टी का फैसला सर्वोपरि है। इसके आगे भी पार्टी की ओर से जो दायित्व दिया जाएगा, वह हम निभाने के लिए तैयार है। संगठन को मजबूत करने के लिए फैसला लिया गया है। 

इसे भी पढ़ें: बलात्कार पीड़िता की पहचान उजागर करने वाले ट्वीट पर बंगाल भाजपा प्रमुख ने मांगी माफी

आपको बता दें कि लगातार बिप्लब देव को अपनी पार्टी के कुछ नेताओं की ओर से आलोचना का सामना करना पड़ रहा था। पार्टी में बिप्लब देव को लेकर एकजुटता दिखाई नहीं दे रही थी। बिप्लब देव ने कहा कि पार्टी चाहती है कि त्रिपुरा में भाजपा लंबे समय तक शासन में रहे। यही कारण है कि पार्टी के कहने पर उन्हें इस्तीफा दे दिया है। शुक्रवार को ही बिप्लब देव ने केंद्रीय गृह मंत्री और वरिष्ठ भाजपा नेता अमित शाह से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद कई तरह के कयास लगाए जा रहे थे। अगले साल फरवरी में त्रिपुरा में चुनाव होने हैं। ऐसे में भाजपा ने यहां भी एक बार फिर से मुख्यमंत्री बदल दिया है। इसके साथ ही भाजपा ने वहां नए मुख्यमंत्री की तलाश शुरू कर दी है। केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता भूपेंद्र यादव और भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव विनोद तावड़े केंद्रीय पर्यवेक्षक के रूप में त्रिपुरा में हैं। बिप्लब कुमार देब की जगह लेने वाले नए नेता की घोषणा आज शाम की जाएगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।