नाबालिग का बलात्कार कर की हत्या, आरोपी को दी गई फांसी की सजा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अप्रैल 29, 2022   16:57
नाबालिग का बलात्कार कर की हत्या, आरोपी को दी गई फांसी की सजा
Prabhasakshi

नाबालिग से दुष्कर्म और हत्या के मामले में दो अभियुक्तों को फांसी की सजा सुनाई गई है।इस मामले में अदालत ने 11 कार्य दिवस में ही अभियुक्तों को सजा सुनाई है।बूंदी के पुलिस अधीक्षक जय यादव ने यहां बयान दिया कि23 दिसंबर 2021 को बसोली थाना क्षेत्र के घने जंगलो में एक नाबालिग बालिका की निर्वस्त्र लाश मिली थी।

जयपुर। राजस्थान की एक स्थानीय अदालत ने नाबालिग से दुष्कर्म और उसकी हत्या के मामले में दो अभियुक्तों को दोषी मानते हुए शुक्रवार को फांसी की सजा सुनाई। राज्य के पुलिस महानिदेशक एमएल लाठर ने बताया कि बूंदी के विशिष्ट न्यायाधीश पोक्सो कोर्ट बूंदी ने बालिका के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उसकी हत्या किए जाने के जघन्य मामले में दोषसिद्ध अपराधी सुल्तान और छोटूलाल को फांसी की सजा सुनाई है। लाठर ने बताया कि पुलिस बालिकाओं और महिलाओं पर होने वाले अपराधों को लेकर संवेदनशील है।

इसे भी पढ़ें: जिग्नेश मेवाणी को बड़ी राहत, पुलिसकर्मी पर कथित हमले के मामले में मिली जमानत

उन्होंने कहा कि ऐसे मामलों में अपराधियों की पहचान, गिरफ्तारी और साक्ष्य एकत्रित कर ‘केस ऑफिसर स्कीम’ के तहत अपराधियों को सजा दिलाने की पुख्ता कार्रवाई की जा रही है। इस मामले में अदालत ने 11 कार्य दिवस में ही अभियुक्तों को सजा सुनाई है। बूंदी के पुलिस अधीक्षक जय यादव ने यहां बयान दिया कि 23 दिसंबर 2021 को बसोली थाना क्षेत्र के घने जंगलो में एक नाबालिग बालिका की निर्वस्त्र लाश मिली थी। पुलिस की 200 से अधिक जवानों की टीम ने 12 घंटे में ही अपराधियों को पकड़ लिया, जिन्होंने पूछताछ में अपना जुर्म स्वीकार किया। पुलिस ने तीन कार्य दिवस में पॉक्सो अदालत में चालान पेश किया और जल्द से जल्द सजा दिलाने के लिये प्रकरण को ‘केस ऑफिसर स्कीम’ में लिया। पुलिस इस स्कीम के तहत उन प्रकरण को शामिल करती है, जो गंभीर प्रकृति के होते हैं और इसमें एक अधिकारी नियुक्त किया जाता है। अदालत ने सुल्तान (27) और छोटूलाल (62) को मात्र 11 कार्य दिवस में ही मृत्युदंड की सजा सुनाई। वहीं इस मामलें में तीसरे नाबालिग आरोपी को किशोर सुधार गृह भेजा गया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...