राजस्थान में दो विदेशी महिलाओं ने ATM से उड़ाए 32 लाख रुपए, CCTV से भी नहीं हो रही थी पहचान !

राजस्थान में दो विदेशी महिलाओं ने ATM से उड़ाए 32 लाख रुपए, CCTV से भी नहीं हो रही थी पहचान !
प्रतिरूप फोटो

आजतक एटीएम से लाखों रुपए रकम का सफाया करते हुए केवल पुरुषों को ही सुना गया है लेकिन अब महिलाएं भी इन वारदातों को अंजाम देने लगी हैं। ताजा मामला राजस्थान से आया है जहां दो महिलाओं ने एटीएम का सर्वर हैकर 32 लाख रुपए निकाल लिए।

जयपुर। आजतक एटीएम से लाखों रुपए का सफाया करते हुए केवल पुरुषों को ही सुना होगा लेकिन अब महिलाएं भी इन वारदातों को अंजाम देने लगी हैं। ताजा मामला राजस्थान से आया, जहां दो महिलाओं ने एटीएम का सर्वर हैक कर 32 लाख रुपए निकाल लिए। इन दोनों महिलाओं की गिरफ्तारी स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने की है। राजस्थान में स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप ने युगांडा और गांबिया से आई दो महिलाओं को गिरफ़्तार किया है। इन दोनों ने रास्पबेरी पाई डिवाइस से बैंक ऑफ बड़ौदा का सर्वर हैक कर एटीएम से 32 लाख रुपये निकाल लिए थे। 

इसे भी पढ़ें: इंदौर में हुई बालों की चोरी, हावड़ा भेजी गई थी बोरियां 

सीसीटीवी में नहीं होती थी पहचान

युगांडा की रहने वाली महिला का नाम अलेक्जेंड्रस और गांबिया की रहने वाली महिला का नाम लौरिया है। दिल्ली से जाकर दोनों राजस्थान के अलग-अलग शहरों में दोनों पैसे निकालती थी और सीसीटीवी के जरिए भी इनकी पहचान ना हो पाए इसलिए हर रोज भेष बदलती थीं। स्पेशल ऑपरेशन ग्रुप के एडीजी के मुताबिक जुलाई में दोनों ने अलग-अलग इलाकों में घूमकर 32 लाख रुपए निकाले। बैंक में तकनीकी खराबी की वजह से सर्वर हैक होने के बावजूद भी अर्लट नहीं आया। अब अगर रास्पबेरी पायी की बात करें तो यह एक कम्प्यूटर और मदरबोर्ड जैसा होता है जिसके लिए कमांड प्रोग्राम का इस्तेमाल किया जाता है। 

इसे भी पढ़ें: नासिक करेंसी प्रिंटिंग प्रेस में नहीं हुई थी 5 लाख रुपए की चोरी, पुलिस ने कहा- वर्कलोड के चलते हुई गलती 

लोकल सर्वर बनाकर उड़ाई रकम

लोकल सर्वर बनाकर दोनों महिलाओं ने एटीएम से रकम सफाया की। वहीं पुलिस ने दोनों की गिरफ्तारी के बाद आगे की कार्रवाई शुरु कर दी है। यह दोनों इतनी शातिर हैं कि इन्होंने पहले यह लगाया कि देश में ऐसे कौन-कौन से बैंक हैं जो मैनुअल सेटिंग सिस्टम पर काम कर रहे हैं और इसके बाद उन्हीं बैंकों के एटीएम को निशाना बनाया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।