एक्शन में यूपी ATS ! देवबंद दारुल उलूम के एक छात्र को किया गिरफ्तार, पाक से कनेक्शन और फर्जी दस्तावेज का है मामला

एक्शन में यूपी ATS ! देवबंद दारुल उलूम के एक छात्र को किया गिरफ्तार, पाक से कनेक्शन और फर्जी दस्तावेज का है मामला
प्रतिरूप फोटो
Creative Commons licenses

यूपी एटीएस को फर्जी दस्तावेज के आधार पर एक छात्र के देवबंद दारुल उलूम में दाखिला लेने की जानकारी मिली थी। जिसके बाद से छानबीन की जा रही थी और फिर एटीएस ने छात्र को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि छात्र काफी समय से पुलिस की रडार में था।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के सहारनपुर में एंटी टेररिस्ट स्क्वाड (एटीएस) ने बड़ी कार्रवाई करते हुए देवबंद दारुल उलूम के एक छात्र को गिरफ्तार किया है। प्राप्त जानकारी के मुताबिक, देवबंद दारुल उलूम में पढ़ाई कर रहा छात्र बांग्लादेश का बताया जा रहा है। जो फर्जी दस्तावेजों के आधार पर 2015 से देवबंद में रह रहा है। छात्र पर आरोप है कि वह फर्जी दस्तावेजों के जरिए देवबंद दारुल उलूम में पढ़ाई कर रहा था। 

इसे भी पढ़ें: हेमंत बिस्वा सरमा ने आम स्कूलों में बदलने का दिया था ऑर्डर, अब मदरसों का कायाकल्प करेंगे योगी 

ऐसे में सवाल खड़ा हो रहा है कि छात्र को आखिर फर्जी दस्तावेजों के आधार पर दाखिला क्यों लेना पड़ा ? इसके साथ ही गिरफ्तार किए गए छात्र का पाकिस्तान कनेक्शन भी सामने आया है। कहा जा रहा है कि छात्र ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग ली है। हालांकि खबर लिखे जाने तक अभी इसकी स्पष्ट जानकारी सामने नहीं आई है। लेकिन पूछताछ जारी है। 

इसे भी पढ़ें: मंदिर की वजह से बंद हो सकता है राजामंडी रेलवे स्टेशन, रेलवे ने जारी किया था नोटिस, जानें पूरा मामला 

पुलिस की रडार में था छात्र

यूपी एटीएस को फर्जी दस्तावेज के आधार पर एक छात्र के देवबंद दारुल उलूम में दाखिला लेने की जानकारी मिली थी। जिसके बाद से छानबीन की जा रही थी और फिर एटीएस ने छात्र को गिरफ्तार कर लिया। बताया जा रहा है कि छात्र काफी समय से पुलिस की रडार में था और उस पर देवबंद में कई संदिग्ध गतिविधियों में शामिल होने का शक भी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।