UP चुनाव को लेकर हुए सर्वे का दावा, 62% ब्राह्मण बीजेपी के साथ, 43% लोगों की पहली पसंद योगी, प्रियंका सबसे निचले पायदान पर रहीं

UP चुनाव को लेकर हुए सर्वे का दावा, 62% ब्राह्मण बीजेपी के साथ, 43% लोगों की पहली पसंद योगी, प्रियंका सबसे निचले पायदान पर रहीं

सर्वे में 43 प्रतिशत लोगों ने योगी आदित्यनाथ को दोबारा मुख्यमंत्री के रूप में देखने की इच्छा जताई, वहीं प्रियंका के प्रति 14 प्रतिशत लोगों ने अपमा समर्थन दिया। बसपा सुप्रीमो मायावती को इस सर्वे में 21 प्रतिशत और सपा के अखिलेश यादव को 20 प्रतिशत लोगों ने अपना वोट दिया।

उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं। तमाम दलों की ओर से जातिय से लेकर धर्मिक समीकरण साधने की कवायद भी अपने उफान पर है। ऐसे में अगले सात महीने बाद होने वाले चुनाव को लेकर देश के सबसे बड़े और राजनीति के लिहाजे से अहम प्रदेश को लेकर तमाम तरह की अटकलें, आशंकाएं और अनुमान जताई जा रही है कि यूपी के लोगों के दिलों में क्या है? क्या इस बार सूबे में सपा, बसपा या कांग्रेस का कोई चांस है या फिर जनता ने योगी के नेतृत्व वाली बीजेपी के नाम पर ही अपनी मुहर लगाने का मन बना लिया है। इस तरह के तमाम सवालों को लेकर किए गए सर्वे के जरिये एक बड़ा खुलासा हुआ है कि अभी अगर उत्तर प्रदेश में चुनाव होते हैं तो बीजेपी पूर्ण बहुमत की सरकार बनाएगी।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश CM योगी का निर्देश, जेवर हवाईअड्डे के डिजाइन में दिखाई दे भारतीय विरासत की झलक

Matrize News Communications ने सबसे बड़ा सर्वे किया है। जिसके अनुसार बीजेपी को उत्तर प्रदेश में 288 सीट मिल सकती है। वहीं समाजादी पार्टी को करीब 80 सीट प्राप्त हो सकते हैं। मायावती की बहुजन समाज पार्टी को 30 सीट मिलने की उम्मीद बताई जा रही है। इसके अलावा भी इस सर्वे में लोगों से बेस्ट सीम, महिला सुरक्षा और जातीय समीकरण को लेकर तमाम सवाल पूछे गए हैं। सर्वे में 43 प्रतिशत लोगों ने योगी आदित्यनाथ को दोबारा मुख्यमंत्री के रूप में देखने की इच्छा जताई, वहीं प्रियंका के प्रति 14 प्रतिशत लोगों ने अपमा समर्थन दिया। बसपा सुप्रीमो मायावती को इस सर्वे में 21 प्रतिशत और सपा के अखिलेश यादव को 20 प्रतिशत लोगों ने अपना वोट दिया।

किस सीएम का काम सबसे बेहतर?

योगी आदित्यनाथ- 46 %

मायावती- 28 %

अखिलेश यादव- 22 %

अन्य- 4  %

यूपी में महिलाओं की सुरक्षा पर कौन बेहतर है?

योगी आदित्यनाथ- 52 %

मायावती- 34 %

अखिलेश यादव- 12 %

अन्य- 2  % 

इसे भी पढ़ें: मायावती और अखिलेश का 2022 का सपना मुंगेरीलाल के सपने जैसा होगा : केशव प्रसाद मौर्य

उत्तर प्रदेश में बीते कुछ समय से एक नैरेटिव सेट करने की कोशिश की जा रही थी कि बीजेपी सरकार से उसका कोर वोट बैंक ब्राह्मण नाराज हैं।  मायावती की तरफ से ब्राह्मण सम्मेलन करवाया जा रहा है। सपा ब्राह्मणों की मीटिंग कर रही है। लेकिन सारी कवायदों को इस सर्वे से करारा झटका लगता दिख रहा है और इससे प्रतीत हो रहा है कि ब्राह्मण वोट बैंक में कोई भी सेंधमारी नहीं हुई है। दरअसल सर्वे में सूबे के ब्राहम्ण वोट को लेकर पूछे गए सवाल पर 64 प्रतिशत लोगों ने योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व में बीजेपी के साथ जाने का संकेत दिया है। वहीं 12 प्रतिशत लोगों का मानना है कि यूपी में कांग्रेस विधानसभा चुनाव से पहले ब्राह्मणों को लुभा सकती है। वहीं 62 प्रतिशत लोगों ने विधानसभा चुनावों में ब्राह्मण वोटरों की बीजेपी के प्रति नाराजगी को सिरे से खारिज कर दिया।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।