भारत की सीमा पर चीन की निर्माण गतिविधियों को लेकर अमेरिकी सांसद ने चिंता जताई

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 25, 2020   15:15
भारत की सीमा पर चीन की निर्माण गतिविधियों को लेकर अमेरिकी सांसद ने चिंता जताई

लद्दाख में भारतीय सीमा पर चीन की अवैध निर्माण गतिविधियों पर चिंता व्यक्त करते हुए अमेरिका के एक प्रभावशाली सांसद ने कहा कि उनका देश हमेशा भारत के साथ खड़ा रहेगा।

वाशिंगटन। लद्दाख में भारतीय सीमा पर चीन की अवैध निर्माण गतिविधियों पर चिंता व्यक्त करते हुए अमेरिका के एक प्रभावशाली सांसद ने कहा कि उनका देश हमेशा भारत के साथ खड़ा रहेगा और चीनी सरकार या किसी अन्य केबदलाव के प्रयास का विरोध करेगा जो क्षेत्र में शांति और स्थिरता के लिए चुनौती हो। भारत और चीन के बीच मई से पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर गतिरोध चल रहा है।

इसे भी पढ़ें: पोप फ्रांसिस ने अल्पसंख्यक उइगर मुस्लिमों पर की टिप्पणी तो चीन ने दिया ये जवाब

डेमोक्रेटिक पार्टी से कांग्रेस के सदस्य राजा कृष्णमूर्ति ने मंगलवार को कहा, भारत से लगती विवादित सीमा पर चीनी सेना द्वारा निर्माण की खबरों के बारे में मुझे जानकारी है और मैं इनसे चिंतित हूं। अगर यह रिपोर्ट सच हैं तो चीन के सैन्य उकसावे से क्षेत्र में तनाव बढ़ता रहेगा। उन्होंने कहा कि अमेरिका हिंद प्रशांत क्षेत्र में हमारे भारतीय साझेदार के साथ हमेशा खड़ा रहेगा और चीन या किसी अन्य द्वारा बदलाव के किसी भी प्रयास का विरोध करेगा जो शांति एवं स्थिरता को चुनौती हो।

इसे भी पढ़ें: मजबूत स्थित को बनाए रखकर चीन के साथ वार्ता करने में भारत एक साझेदार होना चाहिएः एंटनी ब्लिंकेन

इलिनोइस से भारतीय अमेरिकी सांसद ने उपग्रह से ली गई तस्वरों के संबंध में बयान जारी किया है। इन तस्वीरों में दिख रहा है कि चीन पूर्वी लद्दाख में निर्माण गतिविधियां कर रहा है। जुलाई में अमेरिकी प्रतिनिधिसभा ने अपना वार्षिक ‘नेशनल डिफेंस ऑथोराइजेशन’ अधिनियम पारित किया था। इसमें कृष्णामूर्ति का द्विदलीय संशोधन शामिल किया गया है जो वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत की तरफ चीन की आक्रामकता को खत्म करने की मांग करता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।