विक्रम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर लगा योण शोषण का मामला , राज्यपाल-मुख्यमंत्री सहित 8 जगह भेजा शिकायत पत्र

विक्रम विश्वविद्यालय के प्रोफेसर पर लगा योण शोषण का मामला , राज्यपाल-मुख्यमंत्री सहित 8 जगह भेजा शिकायत पत्र

उज्जैन के विक्रम विश्वविद्यालय में प्रोफेसर पर शिकायत करने वाले ने अपने आपका नाम राम कुमार और उज्जैन जिला कोर्ट का बार कांसिल का सदस्य बताया है। पत्र में पिनकोड तो लिखा गया है लेकिन, शिकायटकर्ता ने अपना मोबाइल नंबर नहीं लिखा।

भोपाल। मध्य प्रदेश उज्जैन के विक्रम विश्वविद्यालय से एक ऐसा मामला सामने आया जहां स्पीड पोस्ट से आए एक शिकायत पत्र से हड़कंप मच गया है। शिकायत पत्र में बॉटनी के एक प्रोफेसर पर छात्रा ने यौन शोषण का आरोप लगाया है। शिकायत पत्र में छात्रा को अपनी बहन बताकर प्रोफेसर पर कार्रवाही की मांग की गई है।

दरअसल उज्जैन के विक्रम विश्वविद्यालय में प्रोफेसर पर शिकायत करने वाले ने अपने आपका नाम राम कुमार और उज्जैन जिला कोर्ट का बार कांसिल का सदस्य बताया है। पत्र में पिनकोड तो लिखा गया है लेकिन, शिकायटकर्ता ने अपना मोबाइल नंबर नहीं लिखा।

इसे भी पढ़ें:CM शिवराज के कार्यक्रम में निर्दलीय विधायक की जेब चोरी हुए 1 लाख चोरी 

वहीं शिकायत पत्र में एक कृष्णा नाम की एक महिला का जिक्र किया गया है। आरोप हैं कि प्रोफेसर कुमावत ने पीड़ित छात्रा को कृष्णा के घर जाने का कहा और बताया कि उसके घर जाओगी तो तुम्हारे अंदर कॉन्फिडेंस आ जाएगा। इसके साथ ही कृष्णा नाम की महिला के बीच अवैध संबंधों का भी जिक्र है।

इधर इस मामले पर प्रोफेसर ने सफाई देते हुए कहा कि मुझ पर लगे आरोप निराधार है। विश्वविद्यालय से जुड़े किसी कर्मचारी की साजिश है जल्द ही पुख्ता प्रमाण के साथ सामने साजिशकर्ता को लाऊंगा। इसके साथ ही, उज्जैन विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति ने जांच बैठाई है।

इसे भी पढ़ें:CM शिवराज की बड़ी घोषणा, गरीबों को मकान बनाने के लिए मिलेगी मुफ्त रेत 

उन्होंने कहा कि, पत्र पूरी तरह फर्जी दिख रहा है, जिस भाषा का उपयोग पत्र में किया गया है वो भी सही नहीं है। हालांकि, शिकायत गंभीर है इसलिए हमने महिला प्रोफेसर की टीम गठित की है जो सात दिन में जांच करके देंगी। उन्होंने यह भी कहा कि, पूरा मामला परीक्षा केंद्र से संबंधित दिख रहा है, फिलहाल जांच जारी है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।