राष्ट्रपति के अंगरक्षक बेड़े में शामिल घोड़ा विराट 13 साल बाद हुआ रिटायर, पीएम मोदी के साथ ये तस्वीर हुई वायरल

राष्ट्रपति के अंगरक्षक बेड़े में शामिल घोड़ा विराट 13 साल बाद हुआ रिटायर, पीएम मोदी के साथ ये तस्वीर हुई वायरल

सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की एक तस्वीर काफी वायरल हो रही हैं जिसमें वह गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुए एक घोड़े को सहलाते हुए नजर आ रहे हैं। राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड कमांडेंट में शामिल यह घोड़ा राष्ट्रपति को राजपथ तक पहुंचाने वाली झांकी का सालों से अहम हिस्सा रहा है।

 सोशल मीडिया पर पीएम मोदी की एक तस्वीर काफी वायरल हो रही हैं जिसमें वह गणतंत्र दिवस परेड में शामिल हुए एक घोड़े को सहलाते हुए नजर आ रहे हैं। राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड कमांडेंट में शामिल यह घोड़ा राष्ट्रपति को राजपथ तक पहुंचाने वाली झांकी का सालों से अहम हिस्सा रहा है। राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड कमांडेंट में शामिल यह काले घोड़ा विराट बुधवार को 73वें गणतंत्र दिवस परेड के बाद अपनी वर्षों की सेवा से सेवानिवृत्त हो गया है।

 

इसे भी पढ़ें: केंद्र को जीएसटी आने के बाद से शुरू राज्यों की आर्थिक मदद जारी रखनी चाहिए: अजित पवार

 

सोशल मीडिया पर जो तस्वीर वायरल हो रही है उसमें राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह के साथ प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को नई दिल्ली में राजपथ पर 73 वें गणतंत्र दिवस परेड के दौरान सेवाओं से सेवानिवृत्त हुए राष्ट्रपति के अंगरक्षक के घोड़े 'विराट' को विदाई दी।

इसे भी पढ़ें: बजट 2022: बीमा कंपनियों ने 80सी के तहत निवेश सीमा बढ़ाने की मांग की

विराट राष्ट्रपति के बॉडीगार्ड कमांडेंट कर्नल अनूप तिवारी के  घोड़े थे और उन्होंने गणतंत्र दिवस परेड में 13 बार हिस्सा लिया। राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने परेड के बाद शानदार घोड़े को थपथपाया और विदाई दी।

विराट को 15 जनवरी को थल सेना दिवस की पूर्व संध्या पर थल सेनाध्यक्ष प्रशस्ति से सम्मानित किया गया था। विराट असाधारण सेवा और क्षमताओं के लिए प्रशंसा प्राप्त करने वाले पहले घोड़े हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।