CAA-NRC-NPR का विरोध करने वालों की आवाजों को कुचला नहीं जा सकता : येचुरी

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 12, 2020   17:01
CAA-NRC-NPR का विरोध करने वालों की आवाजों को कुचला नहीं जा सकता : येचुरी

येचुरी ने ट्वीट किया, ‘‘भेदभाव वाले सीएए-एनआरसी-एनपीआर का विरोध करने वालों की आवाज को कुचला नहीं जा सकता।’’ माकपा नेता ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री संपर्क से दूर हैं और सोचते हैं कि वह इससे दूर रह सकते हैं।

नयी दिल्ली। माकपा महासचिव सीताराम येचुरी ने कहा है कि विवादास्पद नागरिकता कानून, एनआरसी और राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) का विरोध करने वालों की आवाजों को कुचला नहीं जा सकता। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पश्चिम बंगाल के दौरे के दौरान प्रदर्शनों की सराहना की। ‘मोदी वापस जाओ’, ‘भाजपा मुर्दाबाद’ नारे वाली तख्तियां लेकर उतरे कार्यकर्ता कोलकाता के एसप्लानेड इलाके में शनिवार को पूरी रात धरने पर बैठे रहे और कहा कि शहर से प्रधानमंत्री के वापस जाने तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।

इसे भी पढ़ें: वामपंथी झूठ का सहारा लेकर जेएनयू में हिंसा का माहौल बना रहे हैं: योगी आदित्यनाथ

येचुरी ने ट्वीट किया, ‘‘भेदभाव वाले सीएए-एनआरसी-एनपीआर का विरोध करने वालों की आवाज को कुचला नहीं जा सकता।’’

 माकपा नेता ने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री संपर्क से दूर हैं और सोचते हैं कि वह इससे दूर रह सकते हैं। वह नहीं रह सकते। भारत के युवा आ चुके हैं और इस देश को आगे ले जाएंगे।’’

मोदी ने राज्य के दो दिवसीय दौरे के दौरान कोलकाता में शनिवार को मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से मुलाकात की । राजभवन में यह बैठक ऐसे वक्त हुई जब संशोधित नागरिकता कानून को लेकर भारतीय जनता पार्टी और तृणमूल कांग्रेस के बीच तीखा टकराव चल रहा है ।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...