राम मंदिर के लिए 115 देशों से जल मंगवाया गया, दिल्ली का गैर सरकारी संगठन का बयान

Ram temple
मोदी ने पिछले साल पांच अगस्त को राम मंदिर की आधारशिला रखी थी। उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘ ऐसे समय में जब लोग कोविड-19 महामारी की वजह से एक देश से दूसरे देश की यात्रा नहीं कर पा रहे हैं तो आस्था और विश्वास के अपने ऐतिहासिक मिशन में हम सफल हुए।

नयी दिल्ली। दिल्ली के एक गैर सरकारी संगठन ने बुधवार को दावा किया कि उसने अयोध्या में राम मंदिर के लिए 115 देशों से पानी मंगवाया है। गैर सरकारी संगठन दिल्ली स्टडी सर्किल के अनुसार ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, अफगानिस्तान, कनाडा, चीन, कंबोडिया, क्यूबा, डीपीआर कांगो, फिजी, फ्रांस, जर्मनी, इटली, इंडोनेशिया, आयरलैंड, इजराइल, जापान, केन्या, लाइबेरिया, मलेशिया, मॉरिशस, म्यामां, मंगोलिया, मोरक्को, मालदीव और न्यूज़ीलैंड से जल मंगवाया गया है।

इसे भी पढ़ें: कल्याण सिंह के बेटे राजवीर सिंह ने कहा, राम मंदिर आंदोलन के लिए ही हुआ था पिताजी का जन्म

इस गैर सरकारी संगठन के प्रमुख और दिल्ली से भाजपा के पूर्व विधायक विजय जॉली ने कहा कि भाजपा के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी, विश्व हिंदू परिषद के दिवंगत अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक सिंघल और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से उन्हें ऐसा करने की प्रेरणा मिली। मोदी ने पिछले साल पांच अगस्त को राम मंदिर की आधारशिला रखी थी।

इसे भी पढ़ें: सीएम योगी के ड्रीम प्रोजेक्ट 251 मीटर ऊंची श्री राम की प्रतिमा लगाए जाने से सहमत नही हैं वेदांती

उन्होंने एक बयान में कहा, ‘‘ ऐसे समय में जब लोग कोविड-19 महामारी की वजह से एक देश से दूसरे देश की यात्रा नहीं कर पा रहे हैं तो आस्था और विश्वास के अपने ऐतिहासिक मिशन में हम सफल हुए। मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्री राम सिर्फ़ अयोध्या के लोगों के लिए पूजनीय नहीं है बल्कि आधुनिक समय में दुनिया भर के लाखों लोग उनकी पूजा करते हैं।’ इस संगठन की योजना अगले महीने इस जल को अयोध्या भेजने की है।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़