पूरे बिहार में विपक्षी महागठबंधन के पक्ष में लहर: राजीव शुक्ला

Rajeev Shukla
उन्होंने वर्तमान नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले राजग के इस चुनाव बाद सत्ता से बाहर होने का दावा करते हुए कहा कि बिहार में यह एक अप्रत्याशित और अभूतपूर्व चुनाव परिणाम होगा।
पटना। पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेसी नेता राजीव शुक्ला ने सोमवार को दावा किया कि जिस तरह से 2014 के लोकसभा चुनावों में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर थी उसी तरह बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में विपक्षी महागठबंधन के पक्ष में भारी लहर है। बिहार विधानसभा चुनाव को सबसे महत्वपूर्ण चुनावों में से एक बताते हुए शुक्ला ने कहा कि इस चुनाव परिणामों का पूरे देश में असर पड़ेगा। शुक्ला ने यहां संवाददाताओं से कहा, “मुझे बिहार में प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार, राज्य में महागठबंधन के पक्ष में ‘आंधी’ नहीं बल्कि यह एक विशाल तूफान है। राज्य में तेजस्वी प्रसाद यादव और कांग्रेस के नेतृत्व वाले महागठबंधन के पक्ष में लहर चल रही है, जो 2014 के लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लहर के समान है। उन्होंने वर्तमान नीतीश कुमार के नेतृत्व वाले राजग के इस चुनाव बाद सत्ता से बाहर होने का दावा करते हुए कहा कि बिहार में यह एक अप्रत्याशित और अभूतपूर्व चुनाव परिणाम होगा। शुक्ला ने कहा, लोगों ने सार्वजनिक सभाओं और निर्वाचन क्षेत्रों में सत्तारूढ़ गठबंधन के नेताओं का विरोध करना शुरू कर दिया है। जब लोग नेताओं के सामने विरोध करना शुरू करते हैं, तो यह आसानी से समझा जा सकता है कि उनके खिलाफ लहर ही नहीं... लहर छोटी शब्दावली होगी, मैं महागठबंधन के पक्ष में तूफान को महसूस कर रहा हूं। कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता पवन खेड़ा सहित पार्टी के अन्य नेताओं के साथ पत्रकारों को संबोधित करते हुए शुक्ला ने कहा कि तेजस्वी प्रसाद यादव और कांग्रेस के नेतृत्व वाले गठबंधन के पक्ष में पूरे बिहार में व्यापक लहर को देखते हुए भाजपा ने अपने पोस्टर और होर्डिंग से प्रदेश के मुख्यमंत्री और जद(यू) प्रमुख नीतीश कुमार की तस्वीर हटा दी है। उन्होंने कहा, हवाई अड्डे (पटना) से कार्यक्रम स्थल तक, मैंने देखा कि भाजपा ने अपने सभी पोस्टरों एवं होर्डिंग्स से नीतीश कुमार की तस्वीर हटा दी है। 

इसे भी पढ़ें: सात निश्चय योजना में हुआ भ्रष्टाचार, लोजपा की सरकार बनी तो दोषी जाएंगे जेल: चिराग

शुक्ला ने कहा कि भाजपा के पोस्टर पर केवल एक तस्वीर है और वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की है। वे (भाजपा) नीतीश कुमार को बोझ मानने लगे हैं और इसलिए उन्हें अपने पोस्टरों से हटा दिया है।  उन्होंने कहा कि भाजपा ने देर से ही सही लेकिन अब यह समझने लगे हैं कि अगर वह अपने नेताओं के साथ नीतीश कुमार की तस्वीर लगाते हैं तो उसे वोट नहीं मिल सकता है। शुक्ला ने कहा कि यह उनके हार स्वीकार करने की शुरुआत है। शुक्ला ने कहा कि लोग भ्रमित हैं कि राजग में कौन किसके खिलाफ चुनाव लड रहा है। केंद्र में राजगमें शामिल लोजपा राजग के ही घटक दल जद (यू) और उसके प्रमुख नीतीश कुमार का विरोध कर रही है तथा यहां तक कि मुख्यमंत्री को जेल भेजने पर आमादा है। युवा नेता बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के खिलाफ हैं, जो इस तथ्य से स्पष्ट है कि राज्य के दो प्रमुख युवा चेहरे- राजद नेता तेजस्वी यादव और लोजपा प्रमुख चिराग पासवान के अलावा कांग्रेस नेता राहुल गांधी भी उनके खिलाफ प्रचार कर रहे हैं।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़