डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने भारत के कोविड टीकाकरण प्रयासों की सराहना की : मांडविया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अक्टूबर 20, 2021   06:45
डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने भारत के कोविड टीकाकरण प्रयासों की सराहना की : मांडविया
प्रतिरूप फोटो

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने मंगलवार को ट्वीट कर बताया, ‘‘डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस के साथ स्वास्थ्य से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत बातचीत हुई। इस दौरान डब्ल्यूएचओ के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। कोविड-19 टीकाकरण में भारत सरकार के बृहद् प्रयासों की डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने प्रशंसा की है।’’

नयी दिल्ली| केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने मंगलवार को कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस अदनोम घेब्रेयेसस के साथ स्वास्थ्य से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर उनकी चर्चा हुई है और उन्होंने कोविड-19 के खिलाफ भारत सरकार द्वारा उठाए गए टीकाकरण के ‘‘बृहद् प्रयासों’’ की सराहना की है।

भारत में मंगलवार तक कोविड-19 टीकों की 99 करोड़ से अधिक खुराकें दी जा चुकी हैं और देश 100 करोड़ खुराक लगाए जाने का आंकड़ा पार करने वाला है। केंद्र ने राज्यों से अपील की है कि टीके की पर्याप्त संख्या में उपलब्धता को देखते हुए वे दूसरी खुराक लगाने पर ध्यान केंद्रित करें।

इसे भी पढ़ें: भारत में अबतक कोविड टीके की 98करोड़ से अधिक खुराक दी गई : स्वास्थ्य मंत्रालय

मांडविया ने ट्वीट किया, ‘‘डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस के साथ स्वास्थ्य से जुड़े विभिन्न मुद्दों पर विस्तृत बातचीत हुई। इस दौरान डब्ल्यूएचओ के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी मौजूद थे। कोविड-19 टीकाकरण में भारत सरकार के बृहद् प्रयासों की डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक ने प्रशंसा की है।’’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘‘हमने 99 करोड़ खुराक लगा दी है। हम कोविड-19 टीकाकरण में 100 करोड़ का आंकड़ा पार करने वाले हैं।

इसे भी पढ़ें: सरकार वैज्ञानिक औचित्य , आपूर्ति स्थिति के आधार पर बच्चों, किशोरों के टीकाकरण का निर्णय लेगी: पॉल





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।