कश्मीर में सुरक्षित क्यों नहीं हैं कश्मीरी पंडित ? CM केजरीवाल बोले- आतंकियों को बख्शेगा नहीं भारत

Arvind Kejriwal
प्रतिरूप फोटो
ANI Image
मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिन पहले कश्मीर में एक सरकारी कर्मचारी राहुल भट्ट की हत्या कर दी गई। हमारी सेना ने 24 घंटो के अंदर 2 आतंकवादी को ढूंढकर मार गिराया पर आज पूरा देश इस बात से चिंतित है कि कश्मीर में आज भी कश्मीरी पंडित सुरक्षित क्यों नहीं है ?

नयी दिल्ली। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सोमवार को कश्मीरी पंडित की हत्या को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि कुछ दिन पहले कश्मीर में एक सरकारी कर्मचारी राहुल भट्ट की हत्या कर दी गई। हमारी सेना ने 24 घंटो के अंदर 2 आतंकवादी को ढूंढकर मार गिराया। दरअसल, जम्मू-कश्मीर के बडगाम जिले में तहसील कार्यालय के भीतर घुसकर आतंकवादियों ने कश्मीरी पंडित की हत्या की थी। 

इसे भी पढ़ें: फारूक अब्दुल्ला बोले- 'द कश्मीर फाइल्स' ने देश में नफरत को दिया जन्म, ऐसी फिल्मों पर लगना चाहिए बैन 

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक, मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि कुछ दिन पहले कश्मीर में एक सरकारी कर्मचारी राहुल भट्ट की हत्या कर दी गई। हमारी सेना ने 24 घंटो के अंदर 2 आतंकवादी को ढूंढकर मार गिराया पर आज पूरा देश इस बात से चिंतित है कि कश्मीर में आज भी कश्मीरी पंडित सुरक्षित क्यों नहीं है ?

आतंकियों को बख्शेगा नहीं भारत

उन्होंने कहा कि मेरी सरकार से गुजारिश है कि कश्मीरी पंडितो को वापस कश्मीर में बसाने के लिए जो भी सुरक्षा व्यवस्था करनी पड़े, जितना भी खर्च हो वो किया जाए... आतंकी समझ ले कि अगर उन्होंने कश्मीरी पंडितों की तरफ गलत इरादे से देखा भी तो उन्हें भारत बख्शेगा नहीं। 

इसे भी पढ़ें: कश्मीरी पंडित कर्मचारियों के संबंध में बड़ा ऐलान करेंगे उपराज्यपाल : भाजपा 

गौरतलब है कि कश्मीरी पंडित राहुल भट्ट की हत्या का सुरक्षाबलों ने 24 घंटे के भीतर बदला ले लिया था। कश्मीरी पंडित की हत्या में दो पाकिस्तानी आतंकवादी शामिल थे, जिन्हें सुरक्षाबलों ने मार गिराया था। कश्मीरी पंडित की हत्या को लेकर जम्मू से कश्मीर तक विरोध प्रदर्शन हुए। इस दौरान भीड़ पर काबू पाने के लिए सुरक्षाबलों ने लाठीचार्ज किया था और आंसू गैस के गोले दागे थे। जिसको लेकर उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने जांच के आदेश दिए हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़